सेना के जवान को उसी के साथियों ने मारी 40 गोलियां, गंभीर हालत में अस्पताल में है भर्ती

Kapil Tiwari

Publish: Nov, 14 2017 03:08:30 (IST)

Asia
सेना के जवान को उसी के साथियों ने मारी 40 गोलियां, गंभीर हालत में अस्पताल में है भर्ती

सैनिक का कसूर ये था कि वो नॉर्थ कोरिया को छोड़कर साउथ कोरिया जा रहा था, जवानों ने उसे देख लिया और 40 गोलियां दाग दी

प्योंगयांग: मामला नॉर्थ कोरिया का है, जहां एक सैनिक को उसी के साथियों ने गोलियों से छलनी कर दिया। अब आप ये जरूर जानना चाहेंगे कि आखिर उस सैनिक का कसूर क्या था। दरअसल, नॉर्थ कोरिया के इस सैनिक की गलती ये थी कि वो अपना देश छोड़कर साउथ कोरिया भाग रहा था। इस बात की भनक उसके साथियों को लग गई। उसके बाद सेना के अन्य सैनिकों ने उसको गोलियों से भून दिया। हालांकि इसके बावजूद भी उसकी मौत नहीं हुई और उसके साथी घायल अवस्था में उसे अस्पताल ले गए।

अस्पताल में हालत है गंभीर
साउथ कोरियाई मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक, सैनिक को करीब 40 गोलियां मारी गईं और उसकी हालत गंभीर है। साउथ कोरिया के ज्वॉइंट चीफ्स आफ स्टाफ (जेसीएस) ने एक बयान जारी कर कहा कि नॉर्थ कोरिया यह जवान साउथ कोरिया से लगे पनमुंजोम गांव की सीमा पर टहल रहा था। उसी दौरान नॉर्थ कोरिया के सैनिकों ने इसे देख लिया। यह गांव चार किलोमीटर चौड़े असैन्यीकृत क्षेत्र में स्थित है जो दोनों कोरिया को अलग करता है। इस क्षेत्र में नजर रखने के लिए सैन्य चौकियां बनी हुई हैं जहां से एक-दूसरे के इलाके में नजर रखी जाती है।

 

North Korean soldier

वॉर्निंग देने पर भी नहीं रूका सैनिक
बताया जा रहा है कि ये सैनिक बॉर्डक क्रॉस करने की फिराक में था। सैनिकों ने उसका इरादा भांप लिया था कि वह सीमा पार करने की फिराक में था। इसी दौरान कुछ नॉर्थ कोरियाई सैनिकों ने उसे वॉर्निग दी तो सैनिक ने दौड़ लगा दी और नॉर्थ कोरियाई सैनिकों ने उस पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। हालांकि, इस दौरान तक घायल सैनिक साउथ कोरिया की सीमा में पहुंच गया था, जहां उसे साउथ कोरिया के सैनिक मिल्रिटी अस्पताल ले गए।

नॉर्थ कोरिया के नागरिक जाते रहे हैं देश छोड़कर
आपको बता दें कि नॉर्थ कोरिया के आम नागरिक अवैध तरीके से सीमा पार करके पड़ोसी देश खासकर चीन जाते रहे हैं। क्योंकि, साउथ कोरिया की सीमा पर भारी सैन्य तैनाती के चलते यहां घुसना आसान नहीं। इसके चलते नॉर्थ कोरिया के लोग चीन से लगी सीमा को प्रमुखता देते हैं। वहां पर मामूली सैन्य तैनाती है। उस सीमा को लोग आसानी से पार करके चीन पहुंच जाते हैं। किसी सैनिक का इस तरह से सीमा पार करना संभव: पहला मामला है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned