पाक चीफ जस्टिस बोले, भारतीय कार्यक्रम दिखाने की इजाजत नहीं देंगे, संस्कृति को बिगाड़ते हैं

पाक चीफ जस्टिस बोले, भारतीय कार्यक्रम दिखाने की इजाजत नहीं देंगे, संस्कृति को बिगाड़ते हैं

Navyavesh Navrahi | Publish: Jan, 10 2019 05:55:12 PM (IST) एशिया

इससे पहले 2016 में भी पाकिस्तानी चैनलों पर भारतीय कंटेंट के प्रसारण पर रोक लगाई गई थी।

पाकिस्तान के चीफ जस्टिस ने भारतीय कार्यक्रमों को देश की संस्कृति के लिए नुकसानदायक बताया है। चीफ जस्टिस साकिब निसार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट पाकिस्तानी टीवी चैनलों पर भारतीय कार्यक्रम दिखाने की आज्ञा नहीं देगा क्योंकि यह ‘हमारी संस्कृति को नुकसान पहुंचाते हैं।’

स्थानीय मीडिया के अनुसार- चीफ जस्टिस निसार ने पाकिस्तान के टीवी चैनलों पर भारतीय कार्यक्रमों के प्रसारण पर रोक के हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान इलेक्ट्रानिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (पेमरा) की अपील पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की है।

रिपोर्ट के अनुसार- प्राधिकरण के प्रमुख सलीम बेग ने अदालत से कहा कि ‘फिल्माजिया चैनल’ पर दिखाए जाने वाले 65 प्रतिशत कार्यक्रम विदेशी हैं और कई बार यह आंकड़ा 80 प्रतिशत तक पहुंच जाता है।

इसी बात पर चीफ जस्टिस ने कहा है कि ‘हम (पाकिस्तानी) चैनलों पर भारतीय कार्यक्रमों के प्रसारण की आज्ञा नहीं देंगे।’ प्राधिकरण के वकील ने चीफ जस्टिस से कहा कि- ‘फिल्माजिया कोई समाचार चैनल नहीं, बल्कि मनोरंजन चैनल है। यह कोई भ्रमक प्रचार नहीं करता है।’ इसके जवाब में चीफ जस्टिस ने कहा कि- ‘यह हमारी संस्कृति को नुकसान पहुंचा रहा है।’

रिपोर्ट के अनुसार- मामले के सभी पहलुओं पर विचार करते हुए प्रधान न्यायाधीश ने सुनवाई को फरवरी तक के लिए टाल दिया है। चीफ जस्टिस की इस टिप्पणी के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि पाकिस्तान में जल्द ही भारतीय चैनलों पर बैन लग सकता है।

इससे पहले 2016 में पेमरा ने स्थानीय टेलीविजन और एफएम रेडियो चैनलों पर भारतीय कंटेंट को प्रसारित करने पर रोक लगा दी थी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned