पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री पर राजद्रोह का आरोप, कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री पर राजद्रोह का आरोप, कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया

Mohit Saxena | Publish: Sep, 11 2018 10:43:36 AM (IST) एशिया

पाक के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी पर आरोप है कि उन्होंने 26/11 के मुंबई हमलों पर नवाज शरीफ के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक में महत्वपूर्ण विवरण साझा किए थे

लाहौर। लाहौर हाईकोर्ट के तीन जजों की बेंच ने पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। पूर्व पीएम के अदालत में न उपस्थित होने पर यह वारंट जारी किया गया हैैै। न्यायमूर्ति माजाहिर अली अकबर नकवी की अध्यक्षता में एलएचसी की तीन न्यायाधीशीय पीठ,राजद्रोह मामले शुरू करने के लिए शाहिद खाकन अब्बासी के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। याचिकाकर्ता और वकील अजहर सिद्दकी के अनुसार अब्बासी ने 26/11 के मुंबई हमलों पर नवाज के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक में महत्वपूर्ण विवरण साझा किए थे। उन्होंने यह भी दावा किया कि बैठक के विवरण साझा करके, अब्बासी ने उच्च राजद्रोह किया है। वकील ने शाहिद खाकान अब्बासी और अन्य उत्तरदाताओं के खिलाफ राजद्रोह परीक्षण शुरू करने के लिए प्रार्थना की है।

नवाज के बर्खास्त होने पर बने थे पीएम

गौरतलब है कि पनामागेट मामले में नवाज शरीफ के बर्खास्त हो के बाद उनकी पार्टी ने शाहिद खकान अब्बासी को पाकिस्तान का अंतरिम प्रधानमंत्री बनाने पर फैसला लिया था। विभिन्न् आरोपों से घिरे नवाज शरीफ ने एक अनौपचारिक बैठक में पहले ही शाहिद खकान अब्बासी को अंतरिम प्रधानमंत्री बनाने का फैसला कर लिया था। ऐसी खबरें थी कि पाकिस्तान के अगले प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के छोटे भाई शहबाज शरीफ होंगे। मगर उनके कार्यभार संभालने से पहले शाहिद खकान अब्बासी को अंतरिम प्रधानमंत्री चुन लिया गया था। वह देश के 18वें प्रधानमंत्री के रूप में चुने गए थे।

आम चुनाव में मिली हार

पाकिस्तान में 25 जुलाई को हुए आम चुनावों के नतीजों में इमरान की पार्टी पीटीआई के प्रत्याशी सदाकत अली अब्बासी ने नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन के उम्मीदवार और पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी को एनए 57 रावलपिंडी सीट से हरा दिया। पीटीआई के सदाकत को 97,104 वोट मिले हैं तो वहीं शाहिद खाकान अब्बासी को 91,381 वोट मिले। पीएमएल-एन के लिए सबसे करारी हार रही है। अब्बासी कभी भी लोकप्रिय नेताओं नहीं गिने गए। मीडिया में उन्हें नवाज की कठपुतली कहा जाता रहा है। नवाज को उम्मीद थी कि उनकी गैरहाजिरी में अब्बास पार्टी को मजबूती देंगे और उनके लिए जनता से साहनभूति प्राप्त करेंगे। मगर ऐसा हो न सका और पार्टी हार झेलनी पड़ी।

 

Ad Block is Banned