पाकिस्तान: प्रथम सिख पुलिस अधिकारी गुलाब सिंह से मारपीट, पत्नी व बच्चों समेत घर से निकाला

पाकिस्तान: प्रथम सिख पुलिस अधिकारी गुलाब सिंह से मारपीट, पत्नी व बच्चों समेत घर से निकाला

Anil Kumar | Publish: Jul, 11 2018 08:28:44 PM (IST) एशिया

डेरा गांव में रहने वाले गुलाब सिंह शाहीन पाकिस्तान के पहले सिख पुलिस अधिकारी हैं, जिन्हें उनके घर से इवकुई ट्रस्ट संपत्ति बोर्ड (ईटीपीबी) और स्थानीय पुलिस ने मिलकर जबरदस्ती बेदखल कर दिया।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के प्रति हिंसक घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। मंगलवार को लाहौर के डेरा चहल गांव से एक ताजा मामल सामने आया है। डेरा गांव में रहने वाले गुलाब सिंह शाहीन पाकिस्तान के पहले सिख पुलिस अधिकारी हैं, जिन्हें उनके घर से इवकुई ट्रस्ट संपत्ति बोर्ड (ईटीपीबी) और स्थानीय पुलिस ने मिलकर जबरदस्ती बेदखल कर दिया। गुलाब सिंह ने दावा किया है कि सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति की मूल संस्था ईटीपीबी के साथ संपत्ति विवाद की वजह से उन्हें पीटा गया और लाहौर डेरा चहल स्थित उनके घर से उन्हें, उनकी पत्नी व बच्चों को बेदखल कर दिया गया। मंगलवार रात एक सोशल मीडिया फेसबुक पर पोस्ट में गुलाब सिंह ने दावा किया कि उन्हें पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (पीएसजीपीसी) की मूल संस्था ईवेक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) ने घर से बाहर निकाल दिया।

 

1947 से सिंह का परिवार उस घर में रह रहा है

आपको बता दें कि इंस्पेक्टर गुलाब सिंह ने कहा कि उनलोतगों ने हाथापाई की और उनकी पगड़ी भी उतार दी। गुलाब सिंह ने बताया कि वे और उनका परिवार 1947 से इस मकान में रह रहे हैं। अपने फेसबुक वीडियो पोस्ट में गुलाब सिंह पुलिस से उस स्थान पर कम से कम 10 मिनट तक रहने देने की प्रार्थना करत दिखाई दे रहे हैं। सिंह ने पूरी दुनिया के सिखों से अपील करते हुए कहा है कि उनकी मदद करें और एक सिख के बाल व पगड़ी के अपमान पर संज्ञान लेने का आग्रह किया है।

पाकिस्तान के लिए चीन ने लॉन्च किए 2 उपग्रह, बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट पर होगी निगरानी

2011 में सिंह ने ईटीपीबी के तत्कालीन चेयरमैन पर दर्ज किया था मामला

गौरतलब है कि वर्ष 2011 में गुलाब सिंह ने ईवेक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के तत्कालीन चेयरमैन सैयद अख्तर हाशमी के खिलाफ अवैध रूप से गुरुद्वारे की प्रॉपर्टी बेचने का मामला दर्ज किया था। मामले की सुनवाई करते हुए पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2018 में हाशमी को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया था। इस गुलाब सिंह के मामले को लेकर अब ईटीपीबी ने कहा कि सिंह ने अवैध रूप से गुरुद्वारा जनम स्थान 'बेबे नानकी डेरा चाहिल' के लंगर हाल को अवैध रूप से हथिया लिया था, जिसे अतिक्रमण रोधी टीम द्वारा खाली करवाया गया।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned