पाकिस्तान: देश हो रहा कंगाल और सेना मालामाल, तख्तापलट की आशंकाएं तेज!

पाकिस्तान: देश हो रहा कंगाल और सेना मालामाल, तख्तापलट की आशंकाएं तेज!

Anil Kumar | Updated: 06 Oct 2019, 11:00:26 PM (IST) एशिया

  • पाक सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा ने बीते दिनों देश के व्यापारियों के साथ मुलाकात की थी
  • पाकिस्तान की अर्थव्यस्था अब तक सबसे बुरे दौर से गुजर रही है

इस्लामाबाद। प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व में पाकिस्तान अब तक के सबसे बुरे आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है। पाकिस्तान में महंगाई चरम पर है और अर्थव्यवस्था की हालत सबसे खराब है।

इन सबके बीच कश्मीर मुद्दे को लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर करारी हार झेलने के बाद पाकिस्तान में जमकर आतंरिक सियासत हो रही है। सेना इमरान खान से काफी खफा है और सेना की कुछ हरकतों को देखते हुए ऐसी आशंका नजर आ रही है कि बहुत जल्द ही तख्तापलट हो सकता है।

इमरान के खिलाफ विपक्ष का 'आजादी मार्च', फजलुर रहमान ने बताया सरकार के खिलाफ 'जंग'

यदि हाल के दिनों की बात करें तो सेना ने कुछ ऐसे कदम उठाए हैं जो कि आम तौर पर देश का प्रधानमंत्री या फिर सियासी दलों के प्रतिनिधि करते हैं। इसमें सबसे प्रमुख है देश के व्यापारियों के साथ अहम बैठक।

बता दें कि पाकिस्तान की सेना लगभग हर तरह के कारोबार करती है और उत्पाद तैयार करती है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि आखिर पाकिस्तान की खराब अर्थव्यवस्था के लिए कौन जिम्मेदार है, इमरान खान या सेना? क्योंकि ऐसा भी माना जाता है कि इमरान खान सेना की कठपुतली की तरह काम करते हैं।

bajwa.jpg

सेना अरबपति और देश कंगाल

बता दें कि पाकिस्तान एक और आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है, वहीं, दूसरी ओर पाकिस्तानी सेना अरबपती है। देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए अब आगे बढ़कर सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने बिजनेस लीडर्स के साथ मीटिंग की।

जयशंकर ने पाकिस्तान पर कसा तंज, कहा-एक को छोड़ सभी पड़ोसियों के साथ भारत के अच्छे रिश्ते

ऐसा अनुमान है कि 2019-20 के वित्त वर्ष में पाकिस्तान की जीडीपी 2.4 फीसद रह सकती है, जबकि वित्तीय घाटा जीडीपी का 7.2 फीसद हो जाएगा, जो कि बीते 9 साल में सबसे अधिक है।

पाकिस्तान की सेना फौजी फाउंडेशन, शाहीन फाउंडेशन, डिफेंस हाउसिंग फाउंडेशन, बाहरिया फाउंडेशन और आर्मी वेलफेयर ट्रस्ट की ओर से 50 कंपनियां चलाती है।

सेना के कई बड़े अधिकारी अनाज, कपड़े, सीमेंट, शुगर मिल, जूता निर्माण कार्य से लेकर एविएशन सर्विसेज, इंश्योरेंस और यहां तक की रिसॉर्ट चलाने और रीयल एस्टेट का कारोबार करते हैं, जिसकी मार्केट वैल्यू 2016 में करीब 20 अरब डॉलर थी। अब ऐसे में देश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था पाकिस्तानी सेना के लिए सिरदर्द बन गई है। ऐसे में सेना अब नए कदम उठाने को मजबूर है।

सेना की संपत्ति में बढ़ोतरी

पाकिस्तान की सेना ने कई कंपनियों में निवेश किया है। अब खनन और तेल के क्षेत्र में भी आगे बढ़ते हुए पाकिस्तान मेरोक फॉस्फोर जैसी कंपनियां स्थापित की हैं।

परवेज मुशर्रफ की हो सकती है राजनीति में वापसी, 6 साल पहले छोड़ दिया था मुल्क

बीते 5 वर्ष में फौजी फाउंडेशन की परिसंपत्तियां और टर्नओवर में करीब 62 फीसद की बढ़ोतरी हुई है। ऐसे में कई तरह के सवाल हैं, जो पाकिस्तान की सियासत और सेना के संबंध को उजागर करते हैं।

बता दें कि आजादी के बाद से अब तक के इतिहास में पाकिस्तान में करीब 35-40 साल सेना ने सीधे तौर पर शासन किया है और बाकी समय में पीछे के दरवाजे से सत्ता को नियंत्रित करते रहे हैं।

ऐसे में यह माना जाना चाहिए की पाकिस्तान की अर्थव्यस्था के बनने और बिगड़ने से पाकिस्तान की सेना बुरी तरह से सीधे तौर पर प्रभावित होती है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned