भारत ने किया अग्नि-2 का परीक्षण, जवाब में पाकिस्तान ने शाहीन-1 मिसाइल की टेस्ट

  • सोमवार को पाकिस्तान ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण।
  • सैन्य प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने किया ट्वीट।
  • 650 किलोमीटर है शाहीन-1 की मारक क्षमता।

Amit Kumar Bajpai

November, 1807:04 PM

इस्लामाबाद। एक ओर शनिवार को भारत ने अपनी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-2 का पहली बार रात में सफल परीक्षण किया, तो दूसरी ओर सोमवार को इसके जवाब में पाकिस्तान ने अपनी सतह से सतह पर मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल शाहीन-1 का सफल परीक्षण किया।

BIG BREAKING: भारतीय सेना में शामिल होंगे 500 से ज्यादा Iron Man, जम्मू-कश्मीर में आतंक का करेंगे सफाया

पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंन (आईएसपीआर) ने यह जानकारी दी। आईएसपीआर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक इस लॉन्च का मकसद आर्मी स्ट्रैटेजिक फोर्सेज कमांड (एएसएफसी) की सामरिक तैयारी की जांच करनी है, जिससे पाकिस्तान की विश्वसनीय न्यूनतम सुरक्षा सुनिश्चित हो सके।

बिग ब्रेकिंगः अब भारतीय सेना में शामिल होगी यह ऐतिहासिक चीज, कांप जाएगी दुश्मनों की रूह, भारत का दिल दहलाने वाला प्लान

शाहीन-1 के इस परीक्षण के दौरान स्ट्रैटेजिक प्लांस डिविजन के महानिदेशक, आर्मी स्ट्रैटेजिक फोर्सेज कमांड के कमांडर, नेसकॉम के चेयरमैन, स्ट्रैटेजिक प्लास डिविजन के वरिष्ठ अधिकारी, वैज्ञानिक व इंजीनियर मौजूद रहे।

सैन्य प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने सोमवार को ट्वीट किया कि एसएसबीएम सभी तरह के परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है और मिसाइल की मारक क्षमता 650 किमी है।

BIG BREAKING NEWS: भारत ने अभी-अभी दाग दी वो मिसाइल और कर दिया इतना बड़ा... हिल गया पूरा...

इससे पहले पाकिस्तान ने बीते अगस्त में एक अन्य एसएसबीएम गजनवी का सफलतापूर्वक परीक्षण किया था।

वहीं, अगर बात करें भारत द्वारा शनिवार रात को लॉन्च की गई बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-2 की तो,इसकी मारक क्षमता 2000 किलोमीटर है। न्यूक्लियर वारहेड ले जाने में सक्षम अग्नि-2 को वर्ष 2004 में ही भारतीय सेना में शामिल किया गया था।

20 मीटर लंबी यह मिसाइल 1,000 किलोग्राम तक न्यूक्लियर हथियार ले जाने में सक्षम है। डीआरडीओ की एडवांस्ड सिस्टम्स लैबोरेटरी द्वारा तैयार अग्नि टू स्टेज मिसाइल है, जो सॉलिड फ्यूल से चलती है।

बड़ी खबरः इस देश ने एक साथ दाग दिए इतने सारे रॉकेट्स... हर तरफ मची खलबली... हो गया पूरा खुलासा..

चूंकि यह सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल है इसलिए इसमें बहुत सटीक निशाना भेदने वाला नेविगेशन सिस्टम लगाया गया है। रात में इसके सफल परीक्षण से इसके नेविगेशन सिस्टम के हर वक्त काम करने की क्षमता भी साफ हो गई।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned