'संघर्षविराम उल्लंघन' को लेकर Pakistan ने वरिष्ठ भारतीय राजनयिक को किया तलब

HIGHLIGHTS

  • पाकिस्तान ( Pakistan ) ने भारतीय सुरक्षा बलों की ओर से कथित संघर्षविराम उल्लंघन ( Ceasefire violation ) पर आपत्ति दर्ज कराते हुए भारतीय उच्चायोग ( Indian High Commission ) के एक वरिष्ठ राजनयिक को तलब किया।
  • पाकिस्तान ने आरोप लगाया है कि 'भारतीय बल नियंत्रण रेखा ( LoC ) तथा वर्किंग बाउंडरी पर तोपखाने, उच्च क्षमता वाले मोर्टार और स्वचालित हथियारों से लगातार असैन्य नागरिकों की आबादी वाले इलाकों को निशाना बना रहे हैं।

By: Anil Kumar

Updated: 26 Jun 2020, 10:42 PM IST

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ( Pakistan ) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। भारत में आतंकियों को घुसपैठ कराने के लिए लगातार लाइन ऑफ कंट्रोल ( Line Of Control ) यानी नियंत्रण रेखा पर सीजफायर का उल्लंघन ( ceasefire violation ) करता रहता है, और आरोप भारत पर लगाता है। ऐसा ही कुछ एक बार फिर से हुआ है।

पाकिस्तान ने भारतीय सुरक्षा बलों ( Indian Army ) की ओर से कथित संघर्षविराम उल्लंघन पर आपत्ति दर्ज कराते हुए शुक्रवार को भारतीय उच्चायोग ( Indian High Commission ) के एक वरिष्ठ राजनयिक को तलब किया। पाकिस्तानी विदेश कार्यालय ने दावा किया कि भारतीय बलों ने गुरुवार को करेला सेक्टर में 'अंधाधुंध और बिना उकसावे के गोलीबारी शुरू कर दी'। इस घटना में 28 वर्षीय एक ग्रामीण घायल हो गया।

जम्मू-कश्मीर के नौशेरा में PAK की गोलीबारी, सेना का एक जवान शहीद

पाकिस्तान ने आरोप लगाया है कि 'भारतीय बल नियंत्रण रेखा तथा वर्किंग बाउंडरी पर तोपखाने, उच्च क्षमता वाले मोर्टार और स्वचालित हथियारों से लगातार असैन्य नागरिकों की आबादी वाले इलाकों को निशाना बना रहे हैं। उन्होंने 2020 में अब तक संघर्षविराम का 1,487 बार उल्लंघन किया है जिसमें 13 लोगों की मौत हो गई और 106 निर्दोष लोग घायल हो गए।'

पाकिस्तान विदेश कार्यालय ने दावा किया कि अंतरराष्ट्रीय कानून ( International Law ) का घोर उल्लंघन नियंत्रण रेखा पर स्थिति खराब करने के भारत के लगातार जारी प्रयासों को दर्शाता है और यह क्षेत्रीय शांति एवं सुरक्षा के लिए खतरा है। आगे यह भी कहा कि भारतीय पक्ष से आग्रह किया गया कि वह भारत और पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षक समूह ( UNMOGIP ) को अनुमति दे जिससे कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुरूप अपनी भूमिका निभा सके। भारत कहता रहा है कि शिमला समझौते और फिर नियंत्रण रेखा की स्थापना के बाद UNMOGIP की उपयोगिता खत्म हो गई है तथा यह अप्रासंगिक हो गया है।

भारत ने पाकिस्तानी राजनयिको की संख्या आधी की

आपको बता दें कि मोदी सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी दूतावास में कार्यरत राजनयिकों की संख्या को आधी कर दी है। पाकिस्तानी राजनियकों ( Pakistan Diplomat ) पर जासूसी करने का मामला सामने आने के बाद यह फैसला लिया गया।

इसके बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है और लगातार भारत पर आरोप लगा रहा है। साथ ही साथ जासूसी करने के आरोपों को खारिज कर दिया है। इसके अलावा पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ( Pakistan Foreign Minister Shah Mehmood Qureshi ) ने आरोप लगाया है कि भारत पाकिस्तान पर फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन कर सकता है।

Jammu-Kashmir: Baramulla में PAK Army ने LOC पर की फायरिंग, गोलीबारी में महिला की मौत

मालूम हो कि पाकिस्तान लगातार सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन कर भारत में आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश करता रहता है। भारतीय सुरक्षा बल लगातार अभियान चलाते हुए जम्मू-कश्मीर में आतंकियों का सफाया कर रही है। इसी कड़ी में त्राल में शुक्रवार को भारतीय जवानों ने तीन आतंकियों को ढेर कर दिया।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned