पाकिस्तान: आखिर ‘पानी पीने’ के कारण क्यों मिली इस महिला को मौत की सजा, सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई शुरू

बीबी के वकील सैफ-उल-मुलूक ने अदालत को बताया है कि यह मामला बीबी और कुछ मुस्लिम महिलाओं के बीच जबानी लड़ाई पर आधारित है।

By: Navyavesh Navrahi

Published: 08 Oct 2018, 09:24 PM IST

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने ईशनिंदा मामले में मौत की सजा के खिलाफ एक ईसाई महिला आसिया बीबी की अंतिम अपील पर सुनवाई शुरू की। बता दें, आसिया बीबी पर सन 2009 में ईशनिंदा का आरोप लगाया गया था और फिर 2010 में उन्हें दोषी ठहरा दिया गया। इसके बाद उन्होंने लाहौर हाईकोर्ट ने मौत की सजा के खिलाफ अपील दायर की, जिसे खारिज कर दिया गया। उन्होंने अपनी दोषिसिद्धी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट अपनी अंतिम अपील दायर की है। अब चीफ जस्टिस साकिब निसार, जस्टिस आसिफ सईद खोसा और जस्टिस मजहर आलम खान मियांखेल पर आधारित सुप्रीम कोर्ट की स्पेशल बैंच ने पांच बच्चों की मां को मिली मौत की सजा के खिलाफ सुनवाई शुरू की है।

अमरीकी वैज्ञानिकों ने दिखाया, इतनी आसानी से हैक हो जाती है ईवीएम

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार- बीबी के वकील सैफ-उल-मुलूक ने अदालत को बताया है कि यह मामला बीबी और कुछ मुस्लिम महिलाओं के बीच जबानी लड़ाई पर आधारित है। इसके बाद एक मस्जिद के इमाम ने ननकाना साहिब के कतनवाला में मामला दर्ज करा दिया। एक मीडिया रिपोर्ट में वकील के हवाले से कहा गया है कि मुस्लिम महिलाओं के बयानों में विरोधाभास है। जबकि चीफ जस्टिस के हवाले से लिखा गया है कि इमाम के मुताबिक एक घर में मामले पर चर्चा के लिए पंचायत भी बैठी थी और इसमें एक हजार लोग इकट्‌ठे हुए थे।

मलेशिया: महातिर मोहम्मद की सरकार ने 25 साल के युवा को बनाया कैबेनिट मंत्री

क्या है मामला?

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार- मामला 14 जून, 2009 का है। एक दिन आसिया नूरीन अपने घर से कुछ ही दूरी पर बगीचे में दूसरी महिलाओं के साथ काम करने पहुंचीं। इस बात का जिक्र उन्होंने अपनी किताब में किया है। आसिया के अनुसार- उस दिन बहुत गर्मी थी। उसने पास के एक कुएं में बाल्टी से पानी निकाला और पास पड़े गिलास में पानी पिया। तभी एक अन्य महिला की भी प्यास से ऐसी ही स्थिति थी। आसिया के अनुसार- जब मैंने उसी गिलास में उस महिला को पानी दिया, तभी एक और महिला ने चिल्लाकर कहा कि इसे न पियो, यह 'हराम' है। क्योंकि एक ईसाई महिला के हाथ से दिया हुआ पानी पीना मेरे साथ काम करने वाली महिलाओं के अनुसार गलत है।

आसिया बीबी को जेल से छुड़ाने के समर्थन में कई देशों में प्रदर्शन भी हुए। यदि आसिया बीबी को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत न मिली, तो उन्हें पाकिस्तान के राष्ट्रपति के सामने दया याचिका लगानी होगी।

तनाव के बीच चीन पहुंचे अमरीकी विदेश मंत्री, उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण पर हुई चर्चा

ऐसे आया सुर्खियों में

ये मामला उस समय मीडिया में आया, जब पंजाब के पूर्व गवर्नर सलमान तासीर ने आसिया बीबी के पक्ष में आवाज उठाई। तासीर की 2011 में इस्लामाबाद में उनके ही सुरक्षाकर्मी ने हत्या कर दी थी।

Show More
Navyavesh Navrahi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned