पीएम मोदी और इमरान खान की जल्द हो सकती है मुलाकात! भारत के साथ रिश्ते फिर से बहाल करने को बेकरार पाकिस्तान

India Pakistan Meeting: ब्रिटिश अखबार फाइनेंशियल टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से दावा किया हैकि पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा भारतीय अधिकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं ताकि पीएम मोदी और इमरान खान के बीच मुलाकात का रास्ता साफ हो सके।

By: Anil Kumar

Updated: 07 Apr 2021, 03:59 PM IST

इस्‍लामाबाद। भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्तों में आई दरार अब धीरे-धीरे भरने लगी है और दोनों देश एक बार फिर से आपसी संबंधों को बहाल कर आगे बढ़ने तत्पर दिखाई दे रहे हैं। बीते कुछ समय में ऐसी घटनाएं हुई हैं, जो इसी ओर साफ इशारा कर रहे हैं। अब ये माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान बहुत जल्द मुलाकात कर सकते हैं।

दोनों शीर्ष नेताओं की मुलाकात की जमीन तैयार करने की कवायद पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने शुरू कर दी है। बाजवा भारतीय अधिकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं ताकि पीएम मोदी और इमरान खान के बीच मुलाकात का रास्ता साफ हो सके। बता दें कि ब्रिटिश अखबार फाइनेंशियल टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से ये दावा किया है।

यह भी पढ़ें :- इमरान खान के कोरोना पॉजिटिव होने पर पीएम मोदी ने की जल्द स्वस्थ होने की कामना

अखबार ने ये दावा किया है कि भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्तों में जमी बर्फ के धीरे-धीरे पिघलने के पीछे संयुक्त अरब अमीरात (UAE) का हाथ है। भारत-पाकिस्तान के बीच शांति बातचीत को बहाल करने में UAE मदद कर रहा है। सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से बात की है और कहा है कि वह कश्मीर में जारी लड़ाई को रोकने का ऐलान करें।

अखबार ने कहा है कि भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत की प्रक्रिया ऐसे समय में शुरू हो रही है, जब कोरोना महामारी की वजह से चरमरा चुकी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की दिशा में दोनों देशों आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं।

अगले एक साल में हो सकती है मुलाकात

आपको बता दें कि अखबार ने अपनी रिपोर्ट में कई अहम दावे किए हैं। अखबार ने कहा है कि अगले 12 महीने में यानी एक साल में दोनों शीर्ष नेताओं की मुलाकात हो सकती है। एक सूत्र ने अखबार को बताया है कि दोनों देशों के उच्च स्तरीय अधिकारियों के बीच बातचीत चल रही है ताकि पीएम मोदी और इमरान खान की मुलाकात की मुक्कमल तैयारी की जा सके। अखबार का दावा है कि भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा यानी आर्टिकल 370 खत्म किए जाने के बाद से ही जनरल बाजवा भारत से बातचीत को लेकर बेताब दिखाई दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- पीएम मोदी ने इमरान खान को दी नसीहत, कहा- पड़ोसियों के साथ भरोसे का रिश्ता होना चाहिए

दोनों देशों के बीच बहाल होते रिश्तों का एक उदाहरण पिछले सप्ताह देखने को मिला, जब पाकिस्तान ने भारत से चीनी और कपास के आयात को मंजूरी दे दी थी, लेकिन फिर घरेलू दबाव के आगे इमरान सरकार को झुकना पड़ा और फैसला वापस ले लिया।

अखबार ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि दोनों देशों के बीच बातचीत को फिर से बहाल कराने को लेकर यूएई के शासक मोहम्‍मद बिन जायद अल नहयान की ओर से मध्यस्थता की जा रही है। अल नहयान के प्रयास के कारण ही इसी साल 25 फरवरी को भारत-पाकिस्तान के बीच कारगर तरीके से सीजफायर को लागू करने पर सहमति बनी है। अब ये कहा जा रहा है कि यदि सबकुछ इसी तरह से ठीक रहा तो अगले 12 महीनों में पीएम मोदी और प्रधानमंत्री इमरान खान के बीच मुलाकात हो सकती है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned