पीएम मोदी ने शेख हसीना को भेंट की कोरोना वैक्सीन की 12 लाख डोज, भारत-बांग्‍लादेश के बीच कई समझौते

PM Narendra Modi Bangladesh Visits: भारत बांग्लादेश के बीच कई अहम समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। पीएम मोदी ने अपने समकक्ष शेख हसीना को कोरोना महामारी के इस संकट में भारत की बनी कोरोना वैक्सीन की 12 लाख डोज भेंट की। इतना ही नहीं 109 जीवनरक्षक ऐंबुलेंस भी सौंपी।

By: Anil Kumar

Updated: 27 Mar 2021, 10:10 PM IST

ढाका। दो दिवसीय दौरे पर बांग्लादेश पुहंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कई महत्वूर्ण कार्यकर्मों में हिस्सा लिया। दौरे के दूसरे दिन पीएम मोदी ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। इस दौरान दोनों देशों के बीच कई महत्वूपर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।

पीएम मोदी और शेख हसीना ने राजधानी ढाका में दोनों देशों के बीच हुए समझौतों का ज्ञापन आदान-प्रदान किया। सबसे बड़ी बात कि पीएम मोदी ने इस वार्ता के बाद एक सच्चे पड़ोसी देश होने का धर्म निभाया। पीएम मोदी ने अपने समकक्ष शेख हसीना को कोरोना महामारी के इस संकट में भारत की बनी कोरोना वैक्सीन की 12 लाख डोज भेंट की। इतना ही नहीं 109 जीवनरक्षक ऐंबुलेंस भी सौंपी।

यह भी पढ़ें :- कौन हैं मुजीबुर रहमान, जिनकी जन्म शताब्दी मनाने बांग्लादेश पहुंचे हैं पीएम मोदी?

भारत-बांग्लादेश के बीच तीसरी यात्री ट्रेन सेवा शुरू

आपको बता दें कि भारत-बांग्लादेश के बीच तीसरी यात्री ट्रेन सेवा की भी शुरूआत हो गई है। यह ट्रेन ढाका (बांग्लादेश) से न्यू जलपाईगुडी (भारत) के बीच चलेगी। पीएम मोदी और शेख हसीना ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसका उद्घाटन किया।

यह नई यात्री ट्रेन बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जयंती और बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम की स्वर्ण जयंती के मौके पर शुरू की गई है। बता दें कि इससे पहले दोनों देशों के बीच दो यात्री ट्रेनें चलती थीं। पहली मैत्री एक्सप्रेस है, जो ढाका से कोलकाता के बीच चलती है और दूसरी बंधन एक्सप्रेस है, जो खुलना (बांग्लादेश) से कोलकाता के बीच चलती है।

6 दिसंबर को मनाया जाएगा ‘मैत्री दिवस’

आपको बता दें कि भारत-बांग्लादेश के बीच रिश्तों को और अधिक मजबूत करने के लिए दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने कई अहम राजनैतिक, सांस्कृतिक व आर्थिक समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। इसी में से एक है 6 दिसंबर को हर साल ‘मैत्री दिवस’ के तौर पर मनाने का फैसला लिया गया है। भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने बताया कि पीएम मोदी और शेख हसीना ने मिलकर ये एतिहासिक फैसला किया है कि हर साल 6 दिसंबर को ‘मैत्री दिवस’ मनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें:- Bangladesh: दाउदी बोहरा समुदाय से मिले पीएम मोदी, ढाका में दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर

बता दें कि यह दिन दोनों देशों के लिए बहुत खास है। चूंकि बांग्लादेश की आजादी के बाद 6 दिसंबर 1971 को भारत ने बांग्लादेश को एक देश के तौर पर औपचारिक रूप से मान्यता दी थी। दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच कई अहम समझौते हुए। विदेश सिचव श्रृंगला ने बताया कि प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत की ‘नेबरहुड फर्स्ट फॉलिसी’ की सराहना की है। इस बैठक में बंगबंधु-बापू डिजिटल प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया गया और दोनों शीर्ष नेताओं ने यह तय किया है कि इस प्रदर्शनी को कई देशों तक ले जाया जाएगा।

कई मुद्दों पर हुई बातचीत

आपको बता दें कि दोनों देशों के बीच कई अहम मुद्दों पर बातचीत हुई। भारतीय विदेश सचिव श्रृंगला ने बताया कि भारत-बांग्लादेश ने अंतरिक्ष में सहयोग बढ़ाने पर सहमति जताई है। इसके अलावा तीस्ता नदी जल बंटवारे के विवाद को सुलझाने पर भी बातचीत हुई है।

वहीं भारत ने फेनी नदी के पानी के बंटवारे के मसौदे को जल्द से जल्द अंतिम रूप देने का अनुरोध किया है। श्रृंगला ने बताया कि दोनों देशों के बीच असैन्य परमाणु सहयोग बढ़ाने, रूपपुर न्यूक्लियर पॉवर प्लांट की ट्रांसमिशन लाइनों को भारतीय कंपनियों द्वारा विकसित करने, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, पर्यावरण, परमाणु ऊर्जा के सामाजिक अनुप्रयोग, वाणिज्य और संपर्क, सहयोग और जल संसाधन, सुरक्षा, रक्षा, शक्ति और ऊर्जा जैसे कई विषयों पर चर्चा की गई और सहमति भी बनी है।

PM Narendra Modi प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned