अमरीका आईएनएफ संधि से बाहर निकला तो रूस भी लंबी दूरी की मिसाइलों का करेगा निर्माणः पुतिन

अमरीका आईएनएफ संधि से बाहर निकला तो रूस भी लंबी दूरी की मिसाइलों का करेगा निर्माणः पुतिन

Mangala Prasad Yadav | Publish: Dec, 05 2018 06:33:42 PM (IST) एशिया

पुतिन ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर अमरीका इंटरमीडिएट रेंज की मिसाइलों का विकास करेगा तो रूस भी लंबी दूरी की मिसाइलों का निर्माण करेगा।

मॉस्कोः अमरीका और रूस के बीच एक बार फिर से तनाव की स्थिति बनती दिख रही है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बुधवार को कहा है कि अगर अमरीका इंटरमीडिएट रेंज की मिसाइलों का विकास करेगा तो रूस भी लंबी दूरी की मिसाइलों का निर्माण करेगा। उन्होंने कहा कि अगर अमरीका इंटरमीडिएट रेंज की मिसाइल और परमाणु हथियारों पर नियंत्रण रखने वाली संधि से बाहर निकलता है तो रूस अमरीका को जवाब देने के लिए मजबूर हो जाएगा।

 

अमरीका ने दी थी रूस को चेतावनी
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अमरीका ने मंगलवार को कहा था कि अगर रूस इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेस (आईएनएफ) संधि का उल्लंघन करना बंद नहीं करेगा तो वह 1987 में हुई दशकों पुरानी इस संधि से बाहर निकलने पर मजबूर होगा। रूस को 60 दिन का अल्टीमेटम देते हुए अमरीका ने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो वह आईएनएफ संधि से निकलने के लिए छह महीने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए मजबूर हो जाएगा।
क्या है आईएनएफ संधि ?
इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेस (आईएनएफ) संधि 8 दिसंबर 1987 को अमरीका के राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और रूस के राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव के बीच हुई थी। इस संधि को 27 मई 1988 को अमरीकी सीनेट द्वारा अनुमोदित किया गया और 1 जून 1988 को लागू किया गया था। यह संधि अमरीका और रूस को 300 से 3,400 मील दूरी तक मार करने वाली जमीन से छोड़े जाने वाली क्रूज मिसाइल के निर्माण को प्रतिबंधित करती है। अगर दोनों देश इस संधि से बाहर निकलते हैं तो विश्व में एक बार फिर हथियारों की होड़ और तनाव की स्थिति पैदा हो जाएगी।

 

Ad Block is Banned