दक्षिण कोरिया: भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरी पूर्व राष्ट्रपति की सजा और जुर्माना बढ़ाने की मांग

अभियोजन पक्ष ने शुक्रवार को सियोल की एक अपीलीय अदालत से 30 साल की सजा देने की मांग की है।

By: Shweta Singh

Published: 20 Jul 2018, 04:15 PM IST

सियोल। दक्षिण कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति पार्क ग्यून हे को भ्रष्टाचार के मामले में अभियोजन पक्ष ने शुक्रवार को सियोल की एक अपीलीय अदालत से 30 साल की सजा देने की मांग की है। आपको बता दें पार्क ग्यून हे को भ्रष्टाचार के मामले में महाभियोग लगाकर राष्ट्रपति पद से हटाया गया था।

अभियोजकों ने पार्क पर 10.4 करोड़ डॉलर का जुर्माना और 30 साल सजा की मांग

इस मामले में एक समाचार एजेंसी में छपि रिपोर्ट के अनुसार, उन्हें छह अप्रैल को दक्षिण कोरिया की एक अदालत ने 24 साल की सजा सुनाई थी। अब अभियोजकों ने पार्क पर 10.4 करोड़ डॉलर का जुर्माना भी लगाने की मांग की है। जबकि इससे पहले अदालत ने उन पर 1.6 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया था।

पंचकूला में 40 लोगों ने पार की हैवानियत की हद, एक युवती से 4 दिन तक करते रहे गैंगरेप

पार्क ग्यून हे पर लगे थे भ्रष्टाचार के ये आरोप

गौरतलब है कि पार्क पर आरोप था कि उन्होंने लंबे समय तक उनके विश्वस्त रहे चोई सून सिल की मिलीभगत से सैमसंग समेत बड़े व्यापारिक समूहों पर चोई के नियंत्रण वाली एक संस्था को 6.82 करोड़ डॉलर दान देने क लिए दबाव बनाया था। उनके ऊपर सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के वाइस चेयरमैल ली जेई-योग को उनके बीमार पिता और कंपनी के चेयरमैन ली कुन ही से कंपनी का प्रबंधन हासिल करने में मदद करने के बदले उनसे 3.82 करोड़ डॉलर का रिश्वत लेने का भी आरोप है।

राहुल गांधी ने सदन में पीएम मोदी को दी जादू की झप्पी, बोले आपके लिए नफरत नहीं बस गुस्सा

अक्टूबर 2017 से अदालत में पेश नहीं हुई पार्क

हालांकि पार्क अक्टूबर 2017 से अदालत में पेश नहीं हुई हैं। यही नहीं उन्होंने खुद पर लगे आरोपों और मुकदमे की कार्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताया है। अब इस मामले में आगे फैसला 24 अगस्त को आ सकता है।

हांगकांग: दुर्व्यवहार मामले में पूर्व नेता डोनाल्ड सांग को जेल की सजा, अपील खारिज होने के बाद अस्पताल में भर्ती

Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned