श्रीलंका: वीजा अवधि खत्म होने के बाद भी रुके रहने पर 44 भारतीय गिरफ्तार

  • भारतीयों को वीजा की अवधि समाप्त होने के बाद तीन महीने से अधिक समय तक ठहरने के मामले में गिरफ्तार किया गया है
  • सभी भारतीय कोलंबो के उपनगर स्लेव आइलैंड में एक निर्माण स्थल पर काम कर रहे थे

By: Anil Kumar

Updated: 06 Sep 2019, 08:20 AM IST

कोलंबो। श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट के बाद से आव्रजन नीति को लेकर भारतीयों पर सबसे बड़ी कार्रवाई की है। आव्रजन अधिकारियों ने गुरुवार को 44 भारतीयों को गुरफ्तार किया है।

सभी भारतीयों को उनकी वीजा की अवधि समाप्त होने के बाद तीन महीने से अधिक समय तक ठहरने के मामले में गिरफ्तार किया गया है।

श्रीलंका के रास्ते तमिलनाडु में घुसे लश्कर के 6 आतंककारी, कोयम्बत्तूर में हाई अलर्ट

‘डेली मिरर’ की रिपोर्ट के मुताबिक, आव्रजन विभाग के अधिकारियों ने इन सभी लोगों को उस वक्त गिरफ्तार किया जब वे राजधानी कोलंबो के उपनगर स्लेव आइलैंड में एक निर्माण स्थल पर काम कर रहे थे।

visa1.jpeg

गिरफ्तार किए गए सभी लोग पुरुष

बता दें कि गिरफ्तार किए गए सभी लोग पुरुष हैं। इस संबंध में सहायक नियंत्रक (जांच) एम जी वी करियावासम ने बताया कि गिरफ्तार किए लोगों की उम्र 25 से 50 साल के बीच है।

उन्होंने आगे कहा कि ये लोग वीजा समाप्त होने के करीब तीन महीने बाद तक यहीं रुके रहे, जबकि इस बीच वीजा अवधि को बढ़ाने के लिए कोई आवेदन भी नहीं दिया।

आर्टिकल 370: श्रीलंका के PM रानिल विक्रमसिंघे ने लद्दाख को बताया भारत का आंतरिक मामला

करियावासम ने बताया, पूछताछ में पता चला कि सभी कामगारों को नियमित आधार पर वेतन का भुगतान नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि एक अलग मामले में 18 अन्य भारतीयों के पासपोर्ट जब्त कर लिये गये हैं। वे भी इसी जगह काम कर रहे थे।

इन सभी के वीजा की जांच करने पर पता चला कि उन्हें इस जगह पर काम करने की अनुमति नहीं है। अधिकारी ने कहा कि सभी को मिरिहाना हिरासत केंद्र को सौंपा जाएगा। जिसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned