सन वेइडोंग होंगे भारत में चीन के अगले राजदूत, विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ कर चुके हैं काम

सन वेइडोंग होंगे भारत में चीन के अगले राजदूत, विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ कर चुके हैं काम

Siddharth Priyadarshi | Publish: Jun, 12 2019 03:06:55 PM (IST) | Updated: Jun, 13 2019 11:28:46 AM (IST) एशिया

  • सन वेइडोंग भारत में चीन के पूर्व राजदूत लुओ झाओहुई का स्थान लेंगे
  • चीनी विदेश मंत्रालय के नीति और नियोजन विभाग के महानिदेशक हैं सन वेइडोंग
  • पाकिस्तान में रह चुके हैं चीन के राजदूत

बीजिंग। अनुभवी राजनयिक सन वेइडोंग भारत में चीन के अगले राजदूत होंगे। एक महत्वपूर्ण फैसले में चीन ने दक्षिण एशियाई मामलों के विशेषज्ञ सन वेइडोंग को भारत में अगले राजदूत के रूप में नामित किया है। सन वेइडोंग बीजिंग में वर्तमान भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ काम कर चुके हैं । सन वेइडोंग पाकिस्तान में चीनी राजदूत के रूप में भी कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में चीनी विदेश मंत्रालय के नीति और नियोजन विभाग के महानिदेशक हैं।

 

फिर पाकिस्तान के लिए दिखी चीन की हमदर्दी, कहा- SCO शिखर सम्मेलन में पाक को न बनाएं निशाना

चीन सरकार का बड़ा फैसला

सन वेइडोंग निवर्तमान राजदूत लुओ झाओहुई का स्थान लेंगे जिन्हें चीन का नया उप विदेश मंत्री बनाया गया है। भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने बताया है कि चीन की ओर से सन की नियुक्ति के बारे में एक समझौते के तहत भारत को पहले ही सूचित किया गया है। चीन में भारतीय राजदूत, विक्रम मिस्री ने एक ट्वीट के माध्यम से नए राजदूत को बधाई दी। मिस्री ने ट्वीट में कहा है, "महामहिम सन को बधाई, जिन्हें भारत में चीनी जनवादी गणराज्य के नए राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया है। हाल ही में बीजिंग में अपने घर में उनका स्वागत करने और उनके महत्वपूर्ण मिशन के लिए शुभकामनाएं देने का अवसर मिला।"

Sun Weidong with imran khan

चीन ने कमर्शियल इस्तेमाल के लिए 5G नेटवर्क को दी मंजूरी, जानें भारत में कब शुरू होगी ये सर्विस

विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ कर चुके हैं काम

चीन और दक्षिण एशिया संबंधों में माहिर सन वेइडोंग 2009 से 2013 तक बीजिंग में भारतीय राजदूत के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान विदेश मंत्री जयशंकर के साथ निकटता से काम कर चुकेहैं। जयशंकर के कार्यकाल में सन चीनी विदेश मंत्रालय के नीति और नियोजन विभाग के उप महानिदेशक थे। उनकी नियुक्ति से भारत और चीन के बीच संबंधों को नया आयाम मिलने की संभावना है।

चीन ने विकसित की ऐसी चिप, जिससे बन सकते हैं आप दिमागी गुलाम!

लुओ झाओहुई की विरासत को आगे बढ़ाने का दबाव

सन वेइडोंग पर पूर्व चीनी राजदूत लुओ झाओहुई की विरासत को आगे बढ़ाने का दबाव होगा। लुओ झाओहुई ने अपने काल में भारत और चीन के बीच संबंधों को सामने और बेहतर बनाने के लिए काफी शानदार काम किया था। बता दें कि उनके काल में भारत और चीन के संबंध डोकलाम जैसे मुद्दों से निकलकर आपसी विश्वास के नए दौर में पहुंचे। इसे का प्रतिफल था कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच कई मुलाकातें हुईं, जिसके बाद दोनों देशों के बीच नए युग का सूत्रपात हुआ।

 

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned