कैंसर की तरह है आतंकवाद, भारत और अफगानिस्तान हैं सबसे बड़े शिकार

कैंसर की तरह है आतंकवाद, भारत और अफगानिस्तान हैं सबसे बड़े शिकार

Siddharth Priyadarshi | Publish: Mar, 12 2019 02:32:24 PM (IST) | Updated: Mar, 12 2019 03:28:53 PM (IST) एशिया

- अफगान राजनयिक ने आतंकवाद को बताया कैंसर
- अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हमदुल्ला मोहिब का बयान
- पाकिस्तान पर वादा खिलाफी का आरोप
- वादों पर गंभीर नहीं है पाकिस्तान
- भारत और अफगानिस्तान में आतंक को बढ़ावा देता है पाक

काबुल। अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हमदुल्ला मोहिब ने कहा कि आतंकवाद कैंसर की तरह है। हमदुल्ला मोहिब ने कहा कि भारत और अफगानिस्तान आतंकवाद से आहत हैं और दोनों देशों को बहुत नुकसान हुआ है। उन्होंने पाकिस्तान पर आरोप लगाया कि वह भाईचारे और ऐतिहासिक संबंधों के बारे में बात करता है लेकिन आतंकवाद से निपटने में कोई सहयोग नहीं दिखाता है। अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा कि भारत और अफगानिस्तान आतंकवाद से समान रूप से आहत हुए हैं।

सुषमा स्वराज से शख्स ने टूटी-फूटी अंग्रेजी में मांगी मदद, लोग करने लगे ट्रोल तो ...

कैंसर की तरह है आतंकवाद

अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हमदुल्ला मोहिब ने एशिया सोसायटी में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि आतंकवाद कैंसर की तरह है। आतंकवाद से इस क्षेत्र में शांति को खतरा है।शीर्ष अफगान राजनयिक ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि दक्षिण एशिया में जारी आतंकवाद को अलग नजरिये से नहीं देखा जाय। मोहिब ने कहा, "हमने पाकिस्तान से आज तक कोई सहयोग नहीं देखा।" इस्लामाबाद से सहयोग पर बोलते हुए शीर्ष राजनयिक ने कहा कि पाकिस्तान हमेशा अच्छा बनने की कोशिश करता है। उन्होंने कहा कि वे भाईचारे, ऐतिहासिक संबंध और पसंद के बारे में बोलते हैं, लेकिन जब वो आतंक को बढ़ावा देते हैं तो उनका भाईचारा कहां चला जाता है?

8 वर्षों बाद पिछड़ा भारत, सऊदी अरब बना हथियारों का सबसे बड़ा खरीदार

भारत और अफगानिस्तान हैं सबसे बड़े शिकार

मोहिब ने कहा कि भारत और अफगानिस्तान आतंकवाद के सबसे बड़े शिकार हैं। उन्होंने कहा इस छद्म युद्ध से दोनों देशों को बहुत नुकसान हुआ है। लेकिन यह सिर्फ भारत और अफगानिस्तान के लिए खतरा नहीं है। आतंकवाद कैंसर की तरह है। आज यह हमारी समस्या है, लेकिन यह जल्द ही किसी और की समस्या होगी। उन्होंने अफगानिस्तान-पाकिस्तान एक्शन प्लान फॉर पीस एंड सॉलिडैरिटी का जिक्र करते हुए कहा कि यह योजना केवल कागजों पर है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned