नेपाल के पर्यटन मंत्री Yogesh Bhattarai ने बताया कैसे पटरी पर लाएं अर्थव्यवस्था

  • नेपाल के पर्यटन मंत्री योगेश भट्टाराई ( yogesh bhattrai ) ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की योजना बताई।
  • एक चर्चा के दौरान उड़ानों की संख्या बढ़ाने, ट्रेकिंग-पर्वतारोहण खोलने को कहा।
  • विदेशों से कुशल श्रमिकों को लाने और घरेलू उड़ानों को खोलने की भी सिफारिश।

 

काठमांडू। नेपाल के पर्यटन मंत्री योगेश भट्टाराई ( yogesh bhattrai ) ने गुरुवार को कहा कि वायरस के खिलाफ जारी लड़ाई के बीच उन्होंने अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने में मदद के लिए चार कार्यों का प्रस्ताव दिया था। इनमें उड़ानों की संख्या बढ़ाना, परियोजनाओं के लिए विदेशी तकनीशियनों को लाने, घरेलू उड़ानों को फिर से शुरू करने और ट्रेकिंग व पर्वतारोहण की अनुमति देना शामिल है।

सोसाइटी ऑफ इकोनॉमिक जर्नलिस्ट्स-नेपाल की ओर से आयोजित बातचीत में भट्टाराई ने कहा, "ये प्रस्ताव आज COVID-19 संकट प्रबंधन समिति के सचिवालय में पेश किया गया। नेपालियों के रूप में ज्यादातर प्रवासी श्रमिक बड़ी संख्या में घर लौट रहे हैं, हमने उनकी मदद करने के लिए विदेश और श्रम मंत्रालय और प्रधानमंत्री के साथ उड़ानों की संख्या बढ़ाने पर चर्चा की।"

उन्होंने कहा कि वर्तमान में उड़ानों की संख्या कम है, और एयरलाइंस को प्रतिदिन 800 से अधिक यात्रियों को लाने की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा, "उड़ानों की संख्या बढ़ने से एयरलाइंस रोज़ाना 2,500 से अधिक यात्रियों को लाने में सक्षम होंगी। मुसाफिरों की आवाजाही में ना केवल एयरलाइन व्यवसाय को सहायता मिलेगी, बल्कि होटल उद्योग को भी लाभ होगा।"

प्रतिमाह 10 अरब का नुकसान

भट्टाराई ने कहा कि एयरलाइंस या विदेशी कंपनियों के अनुरोध पर उड़ानों की संख्या बढ़ाई जाएगी, जो नेपालियों को उनकी लागत पर वापस भेजना चाहते हैं। उन्होंने कहा, "हम मासिक तौर पर 10 अरब रुपये गंवा रहे हैं। पर्यटन उद्योग ने लगभग 10 लाख प्रत्यक्ष रोजगार खो दिए हैं। हम यह जानते हैं और हम उद्योग को पुनर्जीवित करने के लिए काम कर रहे हैं क्योंकि हमारा एक छोटा सा देश पर्यटन पर निर्भर करता है।"

अक्टूबर है प्रमुख

भट्टाराई ने कहा कि उन्होंने दशैन जैसे आगामी त्योहारों के मद्देनजर अक्टूबर से घरेलू यात्री उड़ानों को फिर से शुरू करने का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि मंत्रालय ने परियोजनाओं को विदेशों से तकनीशियनों को लाने की अनुमति देने का प्रस्ताव किया था। कई परियोजनाएं अधर में लटकी हुई हैं क्योंकि कुशल श्रमिक विभिन्न देशों में अटके हुए हैं। गौतम बुद्ध और पोखरा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे जैसी परियोजनाएं अगर हम कुशल श्रमिकों को नहीं लाते हैं, तो उन्हें नुकसान हो सकता है।

जुलाई के तीसरे सप्ताह में लॉकडाउन हटाए जाने के बाद सरकारी या निजी संस्थानों द्वारा वित्त पोषित बड़ी और छोटी परियोजनाओं को श्रमिकों को जुटाने की अनुमति दी गई थी। लेकिन सरकार को कुशल विदेशी श्रमिकों को लाने की अनुमति नहीं थी, जिसके परिणामस्वरूप बड़ी संख्या में परियोजनाएं अंतिम चरण में रुकी गई हैं।

क्या हैं मुख्य योजनाएं

उन्होंने कहा, "हमने विदेशी पर्यटकों के लिए ट्रेकिंग और पर्वतारोहण क्षेत्र को खोलने के लिए समिति को सिफारिश भी की है।" पर्यटन मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि समिति के सभी प्रस्तावों को मंजूरी के लिए कैबिनेट में भेजने से पहले उनकी चर्चा की जाती है। उड़ान संख्या बढ़ाने और विदेशी कुशल श्रमिकों को लाने के प्रस्तावों पर पहले चर्चा की गई है, और उन्हें ठीक किया जा सकता है।

विदेशी पर्यटकों पर राय

एक अधिकारी ने नाम ना छापने की शर्त पर पताया कि विदेशी पर्यटकों को अनुमति देने के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया जा सकता है क्योंकि स्वास्थ्य और विदेश मंत्रालय शुरू से ही इस विचार के बारे में बहुत इच्छुक नहीं थे। उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि कोरोना संकट प्रबंधन समिति देश को विदेशी पर्यटकों के लिए खोलेगी जैसा कि मंत्री भट्टाराई ने प्रस्तावित किया है।"

होटल उद्योग की परेशानी

नेपाल होटल एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बिनायक शाह ने बातचीत में बताया कि देश को विदेशी पर्यटकों के लिए खोलने पर सरकार खुद दुविधा में थी। उन्होंने कहा, "सरकार को इस मुद्दे पर स्पष्ट होना चाहिए। हमारे उद्योग को आगे की योजना बनानी होगी, और हम हर बार निराश नहीं होना चाहते क्योंकि सरकार बार-बार अपना निर्णय बदल रही है। हम हर सात दिन में नई योजनाएं नहीं बना सकते।"

टेकिंग एसोसिएशन की भी टेंशन

ट्रेकिंग एजेंसीज़ एसोसिएशन ऑफ़ नेपाल के अध्यक्ष ख़ुम बहादुर सूबेदार ने कहा कि सरकार का निर्णय हमेशा उद्योग में भ्रम पैदा करता रहा है। उन्होंने कहा, "यह देश को खोलने की समय सारिणी पर स्पष्ट होना चाहिए। सरकार को यह भी स्पष्ट रूप से कहना चाहिए कि वह इस तारीख से पर्यटकों के लिए आगमन पर वीजा जारी कर रही है।"

India-Nepal Dispute: नेपाली रेडियो पर बज रहे भारत विरोधी गाने, नए विवादित नक्शे का धड़ल्ले से हो रहा प्रचार

सरकार पर कैसे करें भरोसा

बीते 20 जुलाई को सरकार ने 30 जुलाई से होटल, ट्रेकिंग और पर्वतारोहण क्षेत्रों को फिर से खोलने का फैसला किया; और इसके हिसाब से उन्होंने पुनरुद्धार की योजना बनाई। लेकिन सरकार अपने फैसले पर पीछे हट गई। एक घरेलू एयरलाइन के अधिकारी के अनुसार, पर्यटन मंत्री भट्टाराई ने उन्हें सूचित किया था कि सरकार जल्द ही किसी भी समय एयरलाइन क्षेत्र को फिर से खोलने नहीं देगी। उन्होंने कहा, "हम मंत्रालय पर कैसे भरोसा कर सकते हैं क्योंकि यह अक्सर अपनी बात बदल रहा है? सरकार की अनियोजित प्रतिक्रिया के कारण पूरा क्षेत्र प्रभावित हो रहा है।"

नेपाल में कोरोना अपडेट

गौरतलब है कि नेपाल में कोरोना वायरस के कुल केस गुरुवार को 50,465 तक पहुंच गए हैं। इनमें पिछले 24 घंटों में 1,246 नए मामले सामने आए, जबकि पांच लोगों की मौत हो गई। इसके चलते नेपाल में अब तक कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या 317 पहुंच चुकी है। स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के अनुसार देश में फिलहाल एक्टिव केस14,448 हैं, जबकि अब तक 35,700 लोग इस महामारी से रिकवर हो चुके हैं।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned