इंडोनेशिया में भूकंप के तेज झटकों के बाद आयी सुनामी, हजारों लोग प्रभावित

भूकंप के तेज झटके के बाद सुनामी आ गई है। सुनामी से हजारों लोग प्रभावित हुए हैं। आपातकालीन सेवाओं से अलर्ट पर रखा गया है।

By:

Updated: 28 Sep 2018, 08:28 PM IST

जकार्ताः इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप में तेज भूकंप के झटकों के बाद सुनामी आ गई है। जिओफिजिक्स विभाग के प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि सुनामी की वजह से आपातकालीन सेवाओं को अलर्ट पर रखा गया है। उन्होंने कहा कि प्रभावित इलाकों से लोगों को हटाने का काम चल रहा है। उधर, इंडोनेशिया के एक न्यूज चैनल ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया है। जिसमें ऊंची-ऊंची लहरें दिख रहीं हैं और लोग इधर-उधर भागते हुए दिखाई दे रहे हैं।

7.5 की तीव्रता का आया था भूकंप
इंडोनेशिया में शुक्रवार को एक घंटे के अंदर में दो बार भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। पहली बार 6.1 तीव्रता का भूकंप आया था जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि दस से ज्यादा घायल हो गए। इसके बाद 7.5 की तीव्रता का जबरदस्त भूकंप आया। अमरीकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग की तरफ से जारी रिपोर्ट के अनुसार, भूकंप का केंद्र डोंगगाला शहर में था। यह जमीन में दस किलोमीटर की गहराई पर था। भूकंप की तीव्रता इतनी ज्यादा थी कि इसका असर 900 किलोमीटर दूर दक्षिण में द्वीप के सबसे बड़े शहर माकासर तक महसूस किया गया। फिलहाल 7.5 की तीव्रता वाले भूकंप में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। बताया जा रहा है कि भूकंप की वजह से कई घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

पहले भी आए थे भूकंप के तेज झटके
बता दें कि इंडोनेशिया में अक्सर भूकंप आते रहे हैं। लोम्बोक द्वीप में 29 जुलाई से 19 अगस्त के बीच आए विनाशकारी भूकंप के झटकों से 557 लोगों की मौत हो चुकी है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के अनुसार, अधिकांश मौतें उत्तरी लोम्बोक नगरपालिका में हुईं थी। यहां 466 लोगों की मौत हुई । उत्तरी लोम्बोक सबसे ज्यादा प्रभावित इलाका है। एक से अधिक बार आए भूकंपों की वजह से 390,000 से ज्यादा लोग विस्थापित हुए थे। जबकि 76,765 इमारतों को नुकसान पहुंचा। भूंकप से पश्चिम लोम्बोक में 40, पूर्वी लोम्बोक में 31, मध्य लोम्बोक में दो और प्रांतीय राजधानी मातरम में नौ लोगों की मौत हुई थी।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned