चीन ने हैक किए 40 लाख सरकारी कर्मचारियों के कंप्यूटर!

चीन ने हैक किए 40 लाख सरकारी कर्मचारियों के कंप्यूटर!
US government hacked

हैकरों ने अमरीका के इतिहास की सबसे बड़ी हैकिंग करते हुए 40 लाख सरकारी कर्मचारियों के कंप्यूटरों का डाटा चुरा लिया है

वॉशिंगटन। हैकरों ने अमरीका के इतिहास की सबसे बड़ी हैकिंग करते हुए 40 लाख से भी ज्यादा पूर्व व वर्तमान सरकारी कर्मचारियों के कंप्यूटरों का डाटा चुरा लिया है। अमरीका का एक भी ऎसा सरकारी ऑफिस नहीं बचा है, जिसके कंप्यूटर से डाटा न चुराया गया है। अमरीकी जांचकर्ताओं ने कहा है कि इस हैकिंग के पीछे चीन का हाथ है। हालांकि चीन ने सभी आरोपों को सिरे से खारिज किया है।

शुरूआत में माना जा रहा था कि सिर्फ निजी प्रबंधन कार्यालय और आंतरिक विभाग के कंप्यूटर ही प्रभावित हुए हैं, लेकिन सरकारी अधिकारियों ने बताया कि लगभग सभी सरकारी एजेंसियां हैकर्स की वजह से प्रभावित हुई हैं। हालांकि अभी भी नुकसान का जायजा लिया जा रहा है और संभव है कि लाखों अन्य कंप्यूटर भी प्रभावित हों।

हैकर्स चीनी सेना के लिए कर रहे हैं काम
अमरीकी जांचकर्ताओं का मानना है कि हैकर्स चीनी सेना के लिए काम कर रहे हैं और अमरीकी खुफिया अधिकारियों की जानकारी इकठ्ठा कर रहे हैं। हालंाकि अभी तक हैकिंग के पीछे की वजह स्पष्ट नहीं हो पाई है।

चीन ने आरोपों को बताया बेबुनियाद
वॉशिंगटन में चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने हालांकि सभी आरोपों को खारिज किया है। झू हैक्युआन ने कहा, "दुनिया भर में हो रहे साइबर हमलों का पता लगाना बेहद मुश्किल है। इसलिए अभी से ही किसी परिणाम पर पहुंचना और बेबुनियाद आरोप लगाना गलत है।"

सेना और न्यायिक विभाग सुरक्षित
अमरीका के लिए अच्छी बात यह है कि उसके न्यायिक व सैन्य विभाग के कंप्यूटर हैक नहीं हुए हैं। हैकिंग को पकड़ने वाले सिस्टम "आइनस्टाइन" ने सरकारी कंप्यूटरों में कुछ गड़बड़ी पाई थी। इसके एक महीने बाद पता चला कि कुछ स ंवेदनशील डाटा चुराया गया है। एफबीआई पूरे मामले की जांच में जुट गई है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned