विवादों के बीच अमरीकी अधिकारी Keith Krach पहुंचे ताइवान, चीन के 18 फाइटर जेट्स ने द्वीप के करीब भरी उड़ान

HIGHLIGHTS

  • अमरीकी विदेश मंत्रालय का वरिष्ठ अधिकारी कीथ क्रैच ( Keith Krach Taiwan Visit ) तीन दिवसीय यात्रा पर ताइवान पहुंचे। चीन के 18 लड़ाकू विमानों ने ताइवान के करीब उड़ान भरकर विरोध जताते हुए अमरीका को चेतावनी देने की कोशिश की।
  • ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि चीन के दो बमवर्ष और 16 लड़ाकू विमानों ने ताइवान के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र को पार करते हुए उड़ान भरी है।

By: Anil Kumar

Updated: 18 Sep 2020, 08:43 PM IST

ताइपे। अमरीका और चीन ( America China Tension ) के बीच चल रहे तनातनी के बीच अमरीकी विदेश मंत्रालय का एक वरिष्ठ अधिकारी तीन दिवसीय यात्रा पर ताइवान पहुंचे। इसको लेकर चीन ने कड़ी आपत्ति दर्ज कराई। चीन के 18 लड़ाकू विमानों ने ताइवान के करीब उड़ान भरकर अपने इरादे साफ कर दिए।

ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि चीन के दो बमवर्ष और 16 लड़ाकू विमानों ने ताइवान के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र को पार करते हुए उड़ान भरी है। उन्होंने कहा कि हमने त्वरित कार्रवाई करते हुए लड़ाकू विमानों को भेजा और चीनी विमानों को खदेड़ दिया। फिलहाल, चीन की हर चाल पर नजर रखी जा रही है।

China की बड़ी साजिश, Taiwan पर कब्जा करने की तैयारी की तेज, America ने भेजे युद्धपोत और Fighter Jet

बता दें कि अमरीकी अधिकारी कीथ क्रैच ( Keith Krach Taiwan Visit ) के ताइवान दौरे को लेकर चीन लगातार विरोध करता आ रहा है और गुरुवार को अमरीकी अधिकारी के ताइपे पहुंचने से पहले अमरीका को चीन की ओर से इस यात्रा को लेकर जवाबी कार्रवाई की कड़ी चेतावनी और धमकी मिल चुकी है।

हालांकि अमरीकी ने चीन की धमकी और चेतावनी को नजरअंदाज करते हुए ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते बढ़ाने का फैसला किया है।

चीन ने राष्ट्रीय संप्रभुता की रक्षा के लिए बताया जरूरी

आपको बता दें कि ताइवानी सीमा में घुसे चीनी लड़ाकू विमानों को लेकर चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता रेन गुओकियांग ने कहा कि यह हमारे अभ्यास का हिस्सा है और राष्ट्रीय संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने के लिए ताइवान जलडमरूमध्य की वर्तमान स्थिति के जवाब में की गई एक वैध और आवश्यक कार्रवाई है।

चीन के विदेश मंत्रालय ने भी इस कदम का बचाव किया। मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा कि चीन के पास ताइवान की स्वतंत्रता बलों द्वारा सभी बाहरी हस्तक्षेप और अलगाववादी कार्रवाइयों को विफल करने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति, पूर्ण आत्मविश्वास और पर्याप्त क्षमता है।

41 साल बाद American Minister की होगी Taiwan यात्रा, China ने दी तीखी प्रतिक्रिया

बता दें कि चीन ताइवान को अपना हिस्से के तौर पर अधिकार जताता है, जबकि ताइवान खुद को एक स्वतंत्र राष्ट्र मानता है। ताइवान के साथ किसी भी अन्य देश की औपचारिक बातचीत का चीन लगातार दृढ़ता से विरोध करता है।

ताइवान-अमरीका संबंध से चीन की बढ़ी परेशानी

आपको बता दें कि चीन से बढ़ते तनाव के बीच 40 वर्ष बाद बीते अगस्त में किसी अमरीकी सरकार का अधिकारी ताइवान के दौरे पर पहुंचा था। इसको लेकर चीन ने कड़ी आपत्ति दर्ज कराई थी। चीन नहीं चाहता है कि अमरीका ताइवान के मामले में दखल दे।

हालांकि ताइवान लगातार अमरीका के करीब आ रहा है। दोनों देशों में हजारों करोड़ रुपये के रक्षा सौदों को लेकर समझौते हो चुके हैं। क्रैच की यात्रा से पहले अगस्त में अमरीकी स्वास्थ्य सचिव एलेक्स अजार ने यात्रा की थी। 1979 के बाद से अमरीकी सरकार के किसी अधिकारी का यह औपचारिक दौरा था।

ताइवान: साई की वापसी पर अमरीका ने दी बधाई, बौखलाए बीजिंग ने बताया 'एक चीन’ के सिद्धांत का उल्लंघन

यह ट्रंप प्रशासन द्वारा ताइवान के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए उठाए गए कदमों की एक श्रृंखला है, जिसमें हथियारों की बिक्री और अंतरराष्ट्रीय मंचों में ताइवान की भागीदारी के लिए समर्थन आदि शामिल है।

बता दें कि क्रैच के ताइवान दौरे से पहले संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी राजदूत केली क्राफ्ट ने बुधवार को दोपहर का भोजन न्यूयॉर्क में ताइवान के शीर्ष अधिकारी के साथ किया था। उस बैठक में उन्होंने क्रैच के दौरे को एतिहासिक बताया था।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned