आज शुभ मुहूर्त में खुलेंगे ओंकारेश्वर ज्योर्तिलिंग मंदिर के कपाट, दर्शन के लिए दिखाना होगा वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र

भगवान ओंकारेश्वर मंदिर कोरोना संक्रमण के कारण करीब दो महीने बंद था। महाकाल मंदिर के बाद अब ओंकारेश्वर ज्योर्तिलिंग मंदिर को 15 जून से खोला जा रहा है। टीकाकरण के प्रमाण पत्र देखने बाद ही मंदिर में प्रवेश मिलेगा।

By: Shaitan Prajapat

Published: 15 Jun 2021, 08:06 AM IST

नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस के कारण पिछले कई दिनों से भगवान के मंदिर भी बंद पड़े। कोरोना की दूसरी लहर अब धीरे धीरे कम हो रही है। अब लोगों को भी रियाहते दी जा रही है। भगवान ओंकारेश्वर मंदिर कोरोना संक्रमण के कारण करीब दो महीने से बंद था। महाकाल मंदिर के बाद अब ओंकारेश्वर ज्योर्तिलिंग मंदिर को 15 जून से खोला जा रहा है। तीनों काल के पुजारी सुबह 11 से 12 बजे तक विशेष मुहूर्त में पूजा करेंगे। इसके बाद मंदिर आम लोगों के लिए खोला दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें :— देश के प्रमुख देवी मंदिर: जानें इन मंदिरों के पहाड़ों या ऊंचे स्थान पर ही होने का रहस्य

शुभ मुहूर्त में की जाएगी पूजा
मंदिर के पूजारी जगदीश परसाई, जितेंद्र शास्त्री व डंकेश्वर दीक्षित शुभ मुहूर्त सुबह 10 बजकर 46 मिनट पूजन करेंगे। इस दौरान नगर पंडा संघ के अध्यक्ष पंडित नवल किशोर शर्मा, पूर्व अध्यक्ष पंडित निलेश पुरोहित, अशोक उपाध्याय, पंडित सुनील शर्मा, देवेंद्र चतुर्वेदी, लक्ष्मी नारायण शर्मा, ब्रह्मानंद शर्मा मौजूद रहेंगे। इनके अलावा पुनासा एसडीएम व मंदिर ट्रस्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सीए सोलंकी, तहसीलदार उदय मंडलोई मंदिर, ट्रस्टी जंगबहादुर सिंह भी उपस्थिति रहेंगे। कोरोना के कारण 66 दिनों से यह मंदिर बंद था। मंदिर खुलने के बाद आसपास के क्षेत्र में रौनक और व्यापार शुरू होने वाला है।

यह भी पढ़ें :— मोहिनी एकादशी 2021 : एकादशी व्रत की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त, जानिए इसका महत्व

दर्शन के लिए टीकाकरण का प्रमाण पत्र
ओंकारेश्वर मंदिर ट्रस्ट के सहायक कार्यपालन अधिकारी अशोक महाजन और मंदिर के व्यवस्थापक पंडित आशीष दीक्षित ने बताया दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं को कोरोना वैक्सीन लगवाने का प्रमाण पत्र देना होगा। टीकाकरण के प्रमाण पत्र देखने बाद ही मंदिर में प्रवेश मिलेगा। मंदिर में सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया है। श्रद्धालुओं की थर्मल स्कैनिंग होगी व आटोमैटिक सैनिटाइजर मशीन से हाथ साफ कराए जाएंगे। एक ट्रे में जल भरा रहेगा, उसमें पैर धोकर मंदिर परिसर में प्रवेश कराया जाएगा। मास्क लगाना व शरीरिक दूरी का पालन करना अनिवार्य है।

कल खोले जाएंगे ममलेश्वर के पट
आर्कियोलाजिकल सर्वे आफ इंडिया द्वारा महामारी के वजह से सभी म्यूजियम व धार्मिक स्थल 15 अप्रैल से बंद किए गए थे। ममलेश्वर ज्योर्तिलिंग मंदिर केंद्रीय पुरातत्व विभाग के तहत आता है। ममलेश्वर ज्योर्तिलिंग मंदिर के पट श्रद्वालुओं के लिए 16 जून को खोले जाएंगे। आदेश में कहा गया है कि विभाग के प्रमुख स्थानों पर कोरोना गाइड लाइन का सख्ती से पालन कराया जाए। इसके लिए एक कमेठी तैयार की गई है जो समय समय पर सुरक्षा का जायजा लेती रहेगी।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned