scriptMaa Kali Puja Vidhi Maa Kali Puja Method Mata Kali Puja Vidhi | हर इच्छा पूरी कर देगी यह साधना पर होगी कठिन परीक्षा... | Patrika News

हर इच्छा पूरी कर देगी यह साधना पर होगी कठिन परीक्षा...

locationभोपालPublished: Jan 20, 2024 01:46:47 pm

Submitted by:

deepak deewan

Maa Kali Puja Vidhi Maha Kali Sadhana Vidhi Maha Kali Favourite Mantra मां काली यानि देवी का सबसे विकराल रूप। जिन्हें देखकर ही हर कोई डर जाए। हालांकि कालीजी का रूप ही भयंकर हैं पर हैं वे उतनी ही ममतामयी। दस महाविद्याओं में काली सर्वप्रमुख कहीं गई हैं। माता काली की साधना से जीवन के सभी दुख दूर किए जा सकते हैं और समस्त कामनाओं की पूर्ति भी की जा सकती है पर इसके लिए बहुत कठिन तप भी करना होगा।

maakaali.png
मां काली यानि देवी का सबसे विकराल रूप

मां काली यानि देवी का सबसे विकराल रूप। जिन्हें देखकर ही हर कोई डर जाए। हालांकि कालीजी का रूप ही भयंकर हैं पर हैं वे उतनी ही ममतामयी। दस महाविद्याओं में काली सर्वप्रमुख कहीं गई हैं। माता काली की साधना से जीवन के सभी दुख दूर किए जा सकते हैं और समस्त कामनाओं की पूर्ति भी की जा सकती है पर इसके लिए बहुत कठिन तप भी करना होगा।

ज्योतिषाचार्य पंडित अरूण कुमार बुचके बताते हैं कि माता काली की साधना करने वालों को कई कठिन स्थितियों से गुजरना पड़ता है। कालीजी विकट परीक्षा लेती हैं हालांकि इस दौर के गुजरने के बाद उनका आशीर्वाद जरूर मिलता है। मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।

यह भी पढ़ें: समुद्र में 300 फीट की गहराई में है श्री कृष्ण की द्वारिका

दरअसल मां काली को बलि बहुत प्रिय है। मां काली को प्रसन्न करने के लिए हमें भी बलि जरुर चढ़ानी होगी लेकिन यह बलि किसी जानवर की नहीं बल्कि विकारों की होती है। पूजा पाठ, साधना शुरू करते ही मां अपने भक्त के विकारों की कुरबानी लेना प्रारंभ कर देती हैं। उनके जन्म जन्मांतरों के पाप नष्ट करने लगती हैं और इस प्रक्रिया में भक्त को बेहद बुरी परिस्थितियों से भी गुजरना होता है। इस परीक्षा में कामयाब होने पर ही मां, किसी की भक्ति को स्वीकार करती हैं।

कालीजी की साधना शुरू करने के पहले कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें। अपने विकारों को खत्म करें, खासतौर पर काम विकार पर अंकुश लगाएं। साधना काल में ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करें। खान पान शुद्ध करें, बिना लहसुन प्याज का सात्विक आहार ही लें। मांस मदिरा का त्याग कर दें। जहां तक संभव हो, सुबह ब्रहममुहूर्त में उठकर स्नान के बाद कालीजी की साधना करें।

कालीजी प्रबल शत्रुहन्ता हैं, उनके आशीर्वाद से दुश्मन शांत हो जाते हैं या पस्त होकर बैठ जाते हैं। शत्रुओं का मान मर्दन करने, विजय पाने, कोर्ट कचहरी में चल रहे मुकदमे में सफलता आदि के लिए काली साधना वरदान जैसी है।काली साधना से वाक् सिद्धि मिलती है यानि जो भी कहा जाए वह सत्य हो जाता है। कालीजी की साधना से भक्त पूर्ण निर्भय हो जाता है, उसे किसी बात का डर नहीं रहता।

ऐसे करें साधना
- नवरात्रि के पहले दिन, किसी भी माह के शुक्लपक्ष की नवमी अथवा किसी भी मंगलवार से काली जी साधना प्रारंभ कर सकते हैं। मां काली की प्रसन्नता के लिए काली मंत्र या ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे मंत्र का जाप कर सकते हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो