भूलकर भी ना पहने इस धातु का कडा, वरना हो जाएंगे बर्बाद

कई मनुष्य बहुत कुछ करना चाहता है लेकिन उसको सकारात्मक फल नहीं मिलता है। वह दिन रात कड़ी मेहनत करता है लेकिन परिणाम उसको उल्टे ही मिलते है। ऐसी स्थिती में इंसान को अपने ग्रहों के बारे में विचार करना चाहिए। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार आभूषण भी ग्रहों को अनुकूल बनाने में खासी भूमिका निभा सकते हैं।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 07 Nov 2020, 07:13 PM IST

नई दिल्ली। कई मनुष्य बहुत कुछ करना चाहता है लेकिन उसको सकारात्मक फल नहीं मिलता है। वह दिन रात कड़ी मेहनत करता है लेकिन परिणाम उसको उल्टे ही मिलते है। ऐसी स्थिती में इंसान को अपने ग्रहों के बारे में विचार करना चाहिए। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार आभूषण भी ग्रहों को अनुकूल बनाने में खासी भूमिका निभा सकते हैं। इस बारे में पंड़ित पर बताते है कि आभूषण रत्न जड़ित हो तो ग्रह पीड़ा, नजर और दु:स्वप्न का नाश होता है। अगर कोई भी जातक खास धातु का कडा धारण करता है तो ग्रह अनुकूल होने लगते हैं। ग्रहों के अनुसार कहां-कौन सी धातु का आभूषण रहेगा उचित यह जानना बेहद जरूरी है।


स्वर्ण के आभूषण
धार्मिक शास्त्र के अनुसार, स्वर्ण के आभूषणों की तासीर गर्म होता है जबकि चांदी शीतल होती है। सूर्य-सोने और तांबे पर, शुक्र व चंद्रमा-चांदी, मंगल-तांबे, गुरु-सोने और शनि व राहू-लोहे पर आधिपत्य रखते हैं। ज्योतिष में सूर्य-ह्रदय, मुंह, गला व सिर का, चंद्रमा-वक्ष, पेट, मंगल-भुजा और शनि-पैरों का प्रतिनिधित्व करता है। आयुर्वेद के अनुसार मनुष्य का सिर ठंडा और पैर गर्म रहने चाहिए। इसलिए सिर पर सोना और पैरों में चांदी के आभूषण ही धारण करने चाहिएं। इससे सिर से उत्पन्न ऊर्जा पैरों में और चांदी से उत्पन्न ठंडक सिर में जाएगी। इससे सिर ठंडा व पैर गर्म रहेंगे।

 

यह भी पढ़े :— एक मुट्ठी काले उडद बदल देंगे आपका भाग्य, एक बार जरूर आजमाए

सिर पर चांदी के आभूषण ना पहने
ऐसी मान्यता है कि सिर में चांदी के और पैरों में सोने के आभूषण नहीं पहनने चाहिए। इससे स्त्रियां अवसाद, पागलपन या अन्य रोगों की शिकार बन सकती हैं। पैरों में सोने की पायल नहीं पहननी चाहिए, चांदी की पायल पहनने से पीठ, एड़ी व घुटनों के दर्द, रक्तशुद्धि, मूत्ररोग, हिस्टीरिया आदि रोगों से राहत मिलती है। सिर और पांव दोनों में स्वर्णाभूषण पहनने से मस्तिष्क और पैरों में समान गर्म ऊर्जा प्रवाहित होगी, जिससे जातक रोगग्रस्त हो सकता है। यही नहीं आभूषणों में अन्य धातु के टांके से भी धारा गड़बड़ा जाती है लेकिन टांके में अन्य धातु का मेल आवश्यक है लेकिन इसमें जिस धातु का गहना है, उसका मिश्रण अधिक हो तो रोग रहित होंगे।


तांबा
ज्योतिष के अनुसार गुरु कान और सोने का प्रतिनिधित्व करता है। अत: सोने की बालियां या झुमके पहनने से स्त्रियों में स्त्री रोग, मासिक धर्म संबंधी अनियमितता, कान के रोग, हिस्टीरिया, डिप्रेशन में लाभ होता है। जो लोग स्वयं को अन्य लोगों से कमतर महसूस करते हों या फिर उनमें हीन भावना घर कर चुकी हो, ऐसे में उन्हें तर्जनी उंगली में सोने का आभूषण धारण करना चाहिए। ज्योतिष में गुरु को नेतृत्व क्षमता कारक ग्रह माना गया है और इनकी धातु भी सोना है। ऐसी स्थिति में स्वर्ण उन्हें अनुकूल परिणाम देता है। रोग निवारण में धातु की भूमिका खास धातु के बनाए आभूषण रोग निवारण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

चांदी
जिन जातकों के कमर या पेट के रोग हों, वे कमर में सोने, तांबे या चांदी की कनकती धारण करें, लाभ मिलता है। धातु ग्रह-क्लेश को भी नियंत्रित कर सकता है। जो जातक दाम्पत्य कलह के शिकार हों, उन्हें चांदी की चेन या अंगूठी धारण करनी चाहिए। साथ ही जो व्यक्ति मानसिक अशांति के कारण अवसाद में हों वे चांदी, तांबा, स्वर्ण तातु से निर्मित छल्ला पहनें तो लाभ मिलेगा। यदि जातक चंद्र पीडित है या मानसिक कष्ट, कफ, फेफड़े का रोग, तन से परेशान हो तो नाक में चांदी का छल्ला डालना लाभ देता है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned