चुनाव के बाद अखिलेश का पहला बड़ा फैसला, इन सभी का मनोनयन किया तत्काल प्रभाव से समाप्त

चुनाव के बाद अखिलेश का पहला बड़ा फैसला, इन सभी का मनोनयन किया तत्काल प्रभाव से समाप्त
Akhilesh

Abhishek Gupta | Updated: 24 May 2019, 06:02:30 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

17वीं लोकसभा के नतीजे आने के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्य्क्ष अखिलेश यादव ने पहला बड़ा फैसल लिया है।

लखनऊ. 17वीं लोकसभा के नतीजे आने के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्य्क्ष अखिलेश यादव ने पहला बड़ा फैसला लेते हुए पार्टी के सभी मीडिया पैनेलिस्ट को मीडिया डिबेट में हिस्सा लेने पर रोक लगा दी है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि अभी तक सपा अध्यक्ष द्वारा जितने भी मीडिया पैनेलिस्ट नामित किए गए थे, उन सभी का मनोनयन तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया जाता है।

ये भी पढ़ें- चुनाव खत्म होते ही सीएम योगी ने यूपी के इन बड़े प्रोजेक्ट्स को पूरा करने का उठाया बीड़ा, लखनऊ व पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र है प्राथमिकता

किया यह अनुरोध-

उन्होंने सभी मीडिया चैलनों से अनुरोध किया है कि सपा के किसी भी पदाधिकारी को अपनी परिचर्चा में शामिल करने के लिए आमंत्रित न करें। जाहिर है कि सपा अध्यक्ष लोकसभा चुनाव में केवल पांच सीटे जीतने से नाखुश हैं और वे नई रणनीति पर कम करने में जुट गए हैं। बसपा से गठबंधन के बावजूद सपा केवल पांच सीटों पर ही जीत दर्ज कर पाई है जिनमें आजमगढ़, मैनपुरी, रामपुर, मुरादाबाद, संभल शामिल हैं। वहीं बसपा ने चुनाव के मुकाबले बड़ी छलांग लगाते हुए इस बार 10 सीटों पर जीत दर्ज की है। 2014 में बसपा खाता भी नहीं खोल पाई थी।

यह लोग भी मीडिया पैनेलिस्ट में शामिल-

चुनाव से पहले मार्च में अखिलेश ने चार मीडिया पैनेलिस्ट की सूची जारी कि थी जिनमें अशोक देव, नाहिद खान लारी, विजय राठी, डाॅ0 कुलदीप सिंह, विनय कुशवाहा शामिल थे। वहीं बीते वर्ष समाजवादी पार्टी का पक्ष रखने के लिए जिन नेताओं को मीडिया पैनेलिस्ट बनाया गया था उनके नाम हैं- राजीव राय, जूही सिंह, नावेद सिद्दीकी, जगदेव सिंह यादव, उदयवीर सिंह, घनश्याम तिवारी, सुनील सिंह यादव, संजय लाठर, सैय्यद अब्बास अली जैदी उर्फ रुशदी मियां, राजपाल कश्यप, वंदना सिंह, शवेंद्र विक्रम सिंह, नासिर सलीम, अनुराग भदौरिया, अब्दुल हफीज गांधी, पवन पांडेय, प्रो. अली खान ‘महमूदाबाद’, निधि यादव, राजकुमार भाटी, ऋचा सिंह, मनोज राय घुपचंडी, जितेंद्र उर्फ जीतू वर्मा, फैजान अली किदवई, राम प्रताप सिंह, संजय गर्ग, अमीत जामेई, रोली तिवारी मिश्रा, विवेक साइलस। वहीं सितंबर, 2018 में जारी की गई सूती में डा, सुधीर पंवार, बरेली के अताउर्रहमान, अलीगढ़ की मुजाहिद किदवई, गोरखपुर के कपीस श्रीवास्तव, चंदौली के मनोज सिंह काका और बलरामपुर के अजीज खान को शामिल किया गया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned