14 साल की बच्ची से हुआ अधेड़ को प्यार.. उस रात हो गया था कुछ ऐसा, पांच साल बाद कोर्ट ने दी मौत की सजा

14 साल की बच्ची से हुआ अधेड़ को प्यार.. उस रात हो गया था कुछ ऐसा, पांच साल बाद कोर्ट ने दी मौत की सजा

Ruchi Sharma | Publish: Apr, 05 2019 12:40:03 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

न्यायाधीश सुशील कुमार की अदालत से फांसी की सजा सुनाई गई है

औरैया. पांच साल पहले एकतरफा प्यार में कक्षा 10 की छात्रा को घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर देने के दोषी अजय कुमार कोरी (35) को जनपद न्यायाधीश सुशील कुमार की अदालत से फांसी की सजा सुनाई गई है। अभियुक्त पर 1.15 लाख रुपये अर्थदंड भी लगाया गया है। मामले में अजय कुमार की पत्नी गीता देवी, मां राधा देवी व भाई विजय को न्यायालय ने दोषमुक्त कर दिया। अभियोजन के अनुसार, ग्राम एरवाटिकुर निवासी रामप्रताप अवस्थी ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि 10 अक्तूबर 2014 की शाम साढ़े छह बजे वह घर में बात कर रहा था।


मामला एरवाकटरा थाना इलाके के मुख्य बाजार इलाके का है, जहां 10 अक्टूबर 2014 को निशा (14 साल) की अजय सिंह ने तमंचे से गोली मार कर हत्या कर दी थी। पिता राम प्रताप ने थाने में केस दर्ज कराया था। उनके अनुसार घटना के दिन शाम साढ़े छह बजे वह अपने घर में पत्नी के साथ बातें कर रहे थे, तभी पड़ोसी 35 वर्षीय अजय घर में घुसा और बेटी निशा की गोली मारकर हत्या कर दी। परिवार वालों ने उसे पकड़ने का प्रयास किया, लेकिन वह भागने में कामयाब रहा। अभियोजन पक्ष के वकील सुरेंद्र नाथ शुक्ला ने बताया कि, पुलिस ने अजय को गिरफ्तार कर घटना में प्रयुक्त तमंचा भी बरामद किया था। वह निशा से एकतरफा प्यार करता था। स्कूल आते-जाते वक्त वह उसे छेड़ता था।

दोनों पक्षों को सुनने के बाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुशील कुमार ने आईपीसी की धारा 302 के तहत अजय कुमार को मृत्युदंड दिया। कोर्ट ने कहा कि अजय कुमार के गले में फंदा डालकर तब तक लटकाया जाए, जब तक उसकी मौत न हो जाए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned