औरैया हादसा : घटना के वक्त था अंधेरा, घायलों की चीख-पुकार सुन जागे ग्रामीण, घायलों को बचाया

-जब तक पहुंचता पुलिस प्रशासन ग्रामीणों ने शुरू कर दिया था राहत कार्य
-पौ फटने से पहले ही घायलों को पहुंचाया अस्पताल, बच गयी कई की जान
-22 घायलों में 15 की हालत गंभीर, सभी को बेहतर इलाज के निर्देश
-गंभीर घायलों को कानपुर के हैलट अस्पताल में रेफर किया गया
-सीएम ने घटना की जांच का दिया आदेश

By: Mahendra Pratap

Updated: 16 May 2020, 10:10 AM IST

पत्रिका लाइव
औरैया. औरेया के शहर कोतवाली क्षेत्र के मिहौली नेशनल हाईवे जहां 24 अप्रवासियों ने घर पहुंचने की चाह में अपनी जान गवां दी वहां हादसे के वक्त अंधेरा था। दिल्ली-कोलकाता हाईवे पर जिस ढाबे के पास चाय पीने के लिए मजदूरों से भरी डीसीएम रुकी थी वह चरूहली गांव कहलाता है। ग्रामीणों ने बताया कि जिस ढाबे के पास डीसीएम रुकी वहां अंधेरा था और डीसीएम सडक़ के किनारे ही खड़ी थी। इसलिए तेज रफ्तार से आ रहे ट्रक को डीसीएम दिखी नहीं और और यह दुर्घटना हो गयी। घायलों की चीख पुकार पर ग्रामीण दौड़े और उन्होंने राहत और बचाव का कार्य शुरू किया। जब तक पुलिस प्रशासन की गाड़ियां पहुंचतीं तब तक ट्रक के नीचे दबे लोगों को ग्रामीण निकाल चुके थे। 22 से अधिक घायलों में कुछ को स्थानीय स्तर पर इलाज के बाद सभी को सैफई मेडिकल कालेज भेज दिया गया। जिसमें से 15 की हालत गंभीर है।

हर तरफ तबाही का मंजर :- ग्रामीणों ने बताया कि जब मलबे के नीचे दबे मजदूरों को निकाला गया तक उनमें कुछ की सांसें चल रही थीं। उन्हें पानी पिलाया गया। घायलों ने ग्रामीणों को अस्पताल पहुंचाने के लिए अपने स्तर से वाहनों का भी इंतजाम किया लेकिन तब तब स्थानीय थाने की पुलिस टीम आ चुकी थी। घायलों को पौ फटने से पहले अस्पताल पहुंचाया गया। सैफई के मेडिकल कालेज में समय से पहुुंच जाने की वजह से बहुत से मजदूरों की जान बचायी जा सकी। घटना के बाद मजदूरों के सामान इधर-उधर बिखरे हुए हैं। हर तरफ तबाही का मंजर है।

औरैया की चीफ मेडिकल अफसर अर्चना श्रीवास्तव ने बताया कि घटना में 22 से ज्यादा लोग घायल हैं। इनमें से 15 की हालत गंभीर है।

मुख्यमंत्री योगी हादसे से दुखी:- इस घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर गहरा शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। योगी ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को हादसे में घायल हुए लोगों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने पीडि़तों को हरसंभव राहत प्रदान करने तथा सभी घायलों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मंडलायुक्त कानपुर तथा आईजी कानपुर को तत्काल मौके पर पहुंच कर राहत कार्य अपनी देख रेख में संपन्न कराने तथा दुर्घटना के कारणों की जांच कर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

रेस्क्यू ऑपरेशन अब खत्म:- औरेया की एसपी सुनीति सिंह और कई थानों की पुलिस मौके पर मौजूद है। जो लोग गंभीर रूप से घायल हैं उनको कानपुर के हैलट अस्पताल में रेफर किया गया है। वहीं रेस्क्यू ऑपरेशन अब खत्म हो चुका है।

Show More
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned