16 वर्षों से लगातार लग रहे इन झटकों ने मायावती की बढ़ाई मुसीबत

Hariom Dwivedi

Updated: 19 Sep 2019, 04:32:02 PM (IST)

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

लखनऊ. मायावती ने जबसे बहुजन समाज पार्टी की बागडोर संभाली है, एक के बाद एक खासमखास नेता उनका साथ छोड़कर जाते रहे हैं। जैसे ही लगता है कि बसपा मजबूती से खड़ी है, कोई न कोई बड़ा नेता पार्टी का साथ छोड़कर चला जाता है, या फिर उसे बसपा से निष्कासित कर दिया जाता है। यह सिलसिला पिछले 16 वर्षों से चल रहा है, जब 18 सितंबर 2003 में कांशीराम के बाद मायावती ने बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनी गई थीं। बहुजन समाज पार्टी को ताजा झटका राजस्थान में लगा है, जहां पार्टी के सभी छह विधायकों ने हाथी का साथ छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned