कोरोना वॉरियर पुलिस इंस्पेक्टर की अचानक हुई मौत, 4 दिन पहले जनता ने उनपर की थी पुष्पवर्षा, दान किया था अपना एक माह का वेतन

बढ़ रही कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या, 60 जिलों में दो हजार के पार पहुंचे कोरोना संक्रमित. अब तक 33 की मौत...

औरैया. उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर अब दो हजार के पार पहुंच चुकी है। रिपोर्ट के मुताबिक मंगलवार को लखनऊ में छह और सीतापुर में एक व्यक्ति को कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। वहीं आगरा में कोरोना वायरस के 8 और मामले सामने आए। नए मामलों के साथ आगरा में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 389 तक पहुंच गई है। इसमें 54 मरीजों को इलाज के बाद छुट्टी मिल चुकी है। उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य सेवा निदेशालय के मुताबिक संक्रमितों में 399 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है। इसके अलावा संक्रमण से 33 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं इससे पहले सोमवार को गोरखपुर और झांसी में भी कोविड-19 के नए संक्रमित मरीज सामने आए। इसके अलावा पीलीभीत को कोरोना मुक्त जिला घोषित किया गया था, लेकिन यहां दोबारा नए संक्रमित मरीज मिल गए। ऐसे में अब तक 60 जिलों में कोरोना पॉजिटिव लोग पाए जा चुके हैं। राज्य सरकार नौ जिलों को कोरोना मुक्त घोषित कर चुकी है। जिसके बाद अब 51 जिलों में कोरोना के एक्टिव केस हैं। वहीं इस बीच औरैया जिले में ड्यूटी के दौरान कोरोना वॉरियर 44 वर्षीय पुलिसकर्मी संजीव राठौर की अचानक तबीयत खराब होने के बाद मौत हो गई।

औरैया में इंस्पेक्टर की मौत

औरैया जिले में ड्यूटी के दौरान 44 वर्षीय पुलिसकर्मी संजीव राठौर की अचानक तबीयत खराब होने के बाद मौत हो गई। फफूंद थाना प्रभारी संजीव राठौर को ड्यूटी के दौरान गले में अचानक कुछ दिक्कत महसूस हुई। उन्हें दिवियापुर स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल में ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। मिलनसार एवं मानवीय दृष्टिकोण रखने वाले मृत इंस्पेक्टर संजीव राठौर ने बीते 10 अप्रैल को अपने एक माह का वेतन कोविड-19 राहत सहायता कोष में दान दिया था। इसके अलावा चार दिन पहले ही फफूंद थाना क्षेत्र की जनता ने लॉकडाउन का पालन करवाने के लिए अपनी टीम के साथ पैदल मार्च कर रहे संजीव राठौर पर पुष्प वर्षा कर और माला पहनाकर स्वागत किया था।

कानपुर किया था रेफर

कानपुर जोन के आईजी मोहित अग्रवाल ने इंस्पेक्टर संजीव राठौर की मौत की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बीते सोमवार की शाम संजीव राठौर की मौत के बारे में पता चला। गले में शिकायत के बाद उनका एक ऑपरेशन किया गया था। इस दौरान उनकी हालत गंभीर हो गई। डॉक्टरों ने संजीव को हार्ट अटैक आने की बात कहकर, कानपुर रेफर कर दिया। जिसके बाद उन्हें लेकर कानपुर पहुंचे। यहां चिकित्सकों ने इंस्पेक्टर संजीव राठौर का चेकअप करने के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया।

कानपुर में रहता है परिवार

मृतक इंस्पेक्टर संजीव राठौर रायबरेली जनपद के थाना खीरी क्षेत्र के गांव सचवा बरवां के रहने वाले थे। उनका परिवार कानपुर में ही रहता है। राठौर की पंचायत चुनाव के दौरान औरैया जनपद में पोस्टिंग हुई थी। दिवियापुर थानाध्यक्ष रहते निष्पक्ष पंचायत चुनाव सम्पन्न कराने पर उन्हें उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा सम्मानित किया गया था। संजीव राठौर की जनता के बीच छवि एक ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार पुलिस अफसर की थी। उनकी मौत की खबर से फफूंद थाना क्षेत्र की जनता शोकाकुल है।

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned