अर्थराइटिस और कमजोर जोड़ों जैसी बीमारियों के रामबाण है ये घरेलू नुस्खे

अर्थराइटिस और कमजोर जोड़ों जैसी बीमारियों के रामबाण है ये घरेलू नुस्खे

By: Ruchi Sharma

Published: 04 Jan 2018, 04:16 PM IST

औरैया. ठंड में ज्यादातर लोगों को जोड़ों के दर्द की शिकायत होती है। यूं तो जोड़ों के दर्द की समस्या एक उम्र के बाद ही सामने आती है लेकिन बेहतर यही है कि आप शुरुआत से ही इसके प्रति सचेत रहें। आज हम आपको जोड़ों के दर्द से तुरन्त राहत देने का नुक्शा बतायेंगे। इस समस्या से आज के दौर में हर व्यक्ति परेशान है। इसके लिए केंद्रीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा अनुसंधान परिषद बोर्ड मेंबर डॉक्टर रवीन्द्र पोरवाल ने स्थाई इलाज खोज निकाला है। जिन्होंने इसमें एमडी पीएचडी भी किया हुआ है।

वर्तमान में कानपुर में लोगों को सेवा दे रहे हैं। जनपद औरैया के गढ़ैया मोहाल के रहने वाले डॉक्टर सहाब की इस खोज से जनपद के नाम भी रोशन हुआ है। उन्हें भारत सरकार के आयुष मंत्रालय में बोर्ड का मेम्बर की जिम्मेदारी दी गई। देशी और सस्ते उपचार का हर आम व्यक्ति लाभ ले सकता है। उन्होंने बताया कि सर्दी के दिनों में बच्चों और बूढ़ों के साथ महिलाओं को विशेष ध्यान देने की जरूरत है। आज के दौर में हर 7 व्यक्ति घुटनों और जोड़ों के दर्द से परेशान है।

इसे अंग्रेजी भाषा में अर्थराइटिस, रिमेटिज्म और गठिया आदि उच्चारण होते है। इसके लिए उन्होंने घरेलू तरीकों और घरेलू चीजों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 8 ग्राम अलसी भुनी हुई और 3 ग्राम बबूल वाला गोंद को भूनकर एक पाउडर बना ले। जो सुबह,रात को दूध के साथ ले। इससे घुटनों की चटपट की आवाज, दर्द और सूजन चली जाएगा।

इसी तरह सर्दी, जुखाम, खांसी के लिए सुहागा को तवे पर फुला ले 2 से 3 ग्राम चाय के साथ सुबह और रात को लें। ब्रोंकाइटिस एलर्जी दमा से निपटने के लिए बहेड़ा का छिलका, नमक का काढ़ा बनाकर चाय की तरह 3 से 4 बार पिए। अजवाइन शक्कर के दाने बराबर बताशा में रखकर ले। डॉक्टर रवीन्द्र पोरवाल ने बताया कि इसके पहले वे आईआईटी कानपुर में नैचरोपैथी और योगा का सेंटर के हेड थे। इसको छोड़ने के बाद उन्होंने ये खोज की। साथ में उनकी पत्नी डॉक्टर रजनी पोरवाल भी उनका पूरा सहयोग करती है।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned