सुरेन्द्र हत्या काण्ड खुलासा, पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर ईट व कुल्हाड़ी से काट कर की थी हत्या

हत्या में प्रयुक्त चौपहिया वाहन के बारे में पुलिस को अभी कोई सुराग नहीं मिल पाया है।

औरैया. जनपद के फफूंद थाना क्षेत्र के ग्राम टिकुरियाबाग के पास केसरी भटटे के सामने बीते शनिवार की देर शाम हुई टिकुरियाबाग निवासी परचूनी व्यापारी सुरेन्द्र पाल की हत्या का थाना पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हत्याकाण्ड में नामजद मृतक की पत्नी व एक अन्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है जबकि एक अन्य नामजद व दो अज्ञात आरोपी फरार है। वहीं हत्या में प्रयुक्त चौपहिया वाहन के बारे में पुलिस को अभी कोई सुराग नहीं मिल पाया है।

गुरुवार को सुरेन्द्र पाल हत्याकांड का खुलासा करते हुये प्रभारी थाना अध्यक्ष राजेश चन्द्र पांडेय ने बताया की थाना क्षेत्र के ग्राम टिकुरीयाबाग थाना फफूंद निवासी सुरेंद्र पाल (44 वर्ष) पुत्र उजियारेलाल पाल किराना व्यापार करते हुए ग्रामीण इलाकों में जाकर परचूनी की फेरी लगाता था। वह फफूंद कस्बे के मुरादगंज तिराहे पर किराने की दुकान किये था। मृतक की पत्नी मालती देवी का गांव के ही निवासी वीरेंद्र सिह से लगभग चार वर्ष पहले अवैध सम्बंध हो गया था। इसकी जानकारी जब सुरेंद्र पाल को हुई तो पति सुरेंद्र पाल व पत्नी मालती देवी में आये दिन झगड़ा भी होता रहता था। पत्नी से संबंधों को लेकर सुरेंद्र पाल से वीरेंद्र सिह का कई वार झगड़ा भी हो चुका था जिससे वीरेंद्र उससे रंजिश रखने लगा था।

बीते शनिवार को सुरेंद्र पाल सुबह अपनी फफूंद स्थित दुकान से माल लेकर दोपहर 2:30 बजे मोपेड़ से ऊंचा गांव में किराने की फेरी करने गया था। देर शाम जब वह वापस लौट रहा था। जैसे ही वह फफूंद मुरादगंज मार्ग पर स्थित ग्राम टिकुरीयाबाग के नजदीक स्थित केशरी भट्टा के सामने पहुंचा तभी वहां पर पहले से घात लगाए बैठे वीरेंद्र सिंह पुत्र सूबेदार, अजय सिंह पुत्र सूबेदार व सुरेंद्र पाल की पत्नी मालती देवी व दो लोग आज्ञात ने चौपहिया गाड़ी से मोपेड़ में टक्कर मार दी जिससे सुरेंद्र पाल सड़क पर गिर गया उसके गिरते ही इन लोगों ने उसे दबोचकर कुल्हाड़ी से उसके ऊपर हमला कर कुल्हाड़ी के कई प्रहार करते हुए उसको काट दिया जिससे वह तड़पने लगा फिर इन लोगों ने उसके ऊपर गाड़ी चढ़ा दी व ईट से उसका सिर कुचल दिया। जिससे उसकी घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गयी। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी भाग गए।

रात्रि में भट्टा का चौकीदार अरविंद कुमार जब गांव से वापस भट्टे पर आया तो देखा की रोड के किनारे वहां पर झोला व चप्पलें पड़ी हुई थी और वहीं पर कुल्हाड़ी व सुरेंद्र पाल का शव पड़ा हुआ था तथा मृतक की मोपेड भटटे के कार्यालय के बाहर खड़ी थी। चौकीदार ने आनन फानन में गांव में सूचना दी। सूचना मिलते ही मृतक सुरेंद्र पाल के परिजन मौके पर आये लेकिन जब तक सुरेन्द्र की मृत्यु हो चुकी थी। घटना को लेकर मृतक सुरेंद्र पाल के भाई राजेंद्र सिह ने थाने में गांव के ही वीरेंद्र सिह व अजय सिंह पुत्रगण सूबेदार व मृतक की पत्नी मालती देवी के खिलाफ हत्या करने का मुकदमा दर्ज कराया था। तब से पुलिस हत्यारों की तलाश में थी।

बुधवार को पुलिस को सूचना मिली की वीरेंद्र सिंह व मालती देवी दोनो लोग अपने घर पर है। तभी थाना प्रभारी राजेश पांडेय व हेड कांस्टेबल प्रमोद कुमार, संजीव कुमार, रेखा देवी मौके पर पहुंचे और दोनों लोगों को गिरफ्तार कर थाने ले आई पुलिस ने उनसे पूछ ताछ करने के बाद दोनों को जेल भेज दिया है और घटना में प्रयुक्त ईट व कुल्हाड़ी भी बरामद कर ली है। प्रभारी थानाध्यक्ष राजेश पांडेय ने बताया कि हत्या में शामिल फरार एक नामजद व दो अन्य अज्ञात की तलाश में भी पुलिस लगी हुई है और हत्या में इस्तेमाल हुए चारपहिया वाहन की भी जानकारी जुटाने में लगी हुई है जिसका जल्द ही खुलासा किया जायेगा।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned