शौचालय के नाम पर की जा रही ठगी, लाभार्थी के बजाए प्रधान बनवा रहे हैं शौचालय

स्वच्छता अभियान बना हुआ है मजाक...

औरैया. एरवाकटरा विकास खंड के अंतर्गत पड़ने वाली ग्राम पंचायत तुर्कपुर में ग्राम प्रधान की मनमानी के चलते ग्रामीणों को घटिया सामिग्री इस्तेमाल कर शौचालय निर्माण किया जा रहा है। एक तरफ जहां केंद्र सरकार के द्वारा चलाई जा रही स्वच्छ भारत मिशन के तहत घर-2 शौचालय निर्माण कराने के लिए शासन के द्वारा सभी ग्राम पंचायतों में जहां लाखो रुपये खर्च कर हर घर मे शौचालय निर्माण कराए जाने की सरकार मुहिम चला रही है, तो वहीं ग्राम पंचायत तुर्कपुर यासीन विकास खंड ऐरवा कटरा के प्रधान चंद्रशेखर की मनमानी के चलते लाभार्थियों को तीन बोरी सीमेंट तथा आठ सौ सौ ईंट देते हैं। जबकि सरकार के द्वारा प्रति एक शौचालय पर बारह हजार रुपये देती है। संवाददाता द्वारा जांच किये जाने पर शौचालय निर्माण करा रहे मानसिंह पुत्र कालीचरण निवासी तुर्कपुर ने बताया कि ग्राम प्रधान की मनमानी के चलते मुझे सिर्फ 800 सौ ईंट तथा तीन बोरी सीमेंट एवं डस्ट दी गयी है।

 

शौचालय की राशि बर्बाद

 

सरकार द्वारा शौचालय निर्माण के लिए दो किश्तों में भुगतान किया जा रहा है। बबाबजूद अपनी मनमानी कर विकास खंड और ग्राम पंचायत मिलकर शौचालय की मिलने वाली राशि को बर्बाद कर रहे है। शौचालय के सर्वप्रथम पहली किश्त में 6 हजार और दूसरी किश्त टैब जारी होती है जब आप का शौचालय निर्माण हो जाये। इसकी वाकायदा फ़ोटो खींच कर सत्यापन कराने के उपरांत ही धनराशि डेय है। लेकिन प्रधानमंत्री की अति महत्वाकांक्षी अभियान का पलीता लगाया जा रहा है।

 

खराब सामान से शौचालय निर्माण को मजबूर

उक्त ग्राम के निवासियों द्वारा सरकार की ओर से आ रहे बारह हजार रुपये की मांग की गई। तो ये कह दिया कि जो करना हो कर लो यदि शौचालय निर्माण कराना हो तो करा लो नहीं तो सामान किसी और को दे दिया जाएगा। तो दबे- सहमे मजदूर किस्म के किसानो को मजबूरी में ही खराब सामान से ही शौचालय निर्माण को मजबूर हैं। सहायक विकास अधिकारी पंचायत अभिलाष बाबू ने बताया कि इस प्रकार की शिकायतों के कारण जल्द ही सभी ग्रामपंचायतो के प्रधानों की मीटिंग की तैयारी चल रही है जो कि जल्द ही सभी की मीटिंग कर शिकायतों का निस्तारण किया जायेगा। विकास खंड कार्यालय में तैनात अभिलाष बाबू ने बताया कि प्रत्येक लाभार्थी को एक शौचालय हेतु बारह हजार रुपये सरकार द्वारा दिये जा रहे हैं।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned