Gemopai Electric Miso : कोरोना वायरस से बचाएगा Miso Electric Scooter, फुल चार्ज होकर दौड़ता है 75 किलोमीटर

जेमोपाई इलेक्ट्रिक नाम ( gemopai electric miso ) की इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता कंपनी ने शुक्रवार को मार्केट में अपना मिनी e-scooter मीसो ( gemopai electric miso electric scooter ) पेश कर दिया है। ये स्कूटर एक बार फुल चार्ज होने के बाद पूरे 75 किलोमीटर का सफर तय कर सकता है।

By: Vineet Singh

Published: 27 Jun 2020, 02:08 PM IST

नई दिल्ली: दुनिया भर में आजकल e-mobility को खूब प्रमोट किया जा रहा है और ऐसे वाहन खूब चर्चा का विषय बने हैं जो बिजली पर चलते हैं। ऐसे वाहन न सिर्फ पर्यावरण को प्रदूषण से बचाते हैं बल्कि लोगों की जेब पर बोझ भी नहीं डालते क्योंकि आजकल पेट्रोल-डीजल की कीमतें आसमान छू रही है ऐसे में इलेक्ट्रिक वाहन ( electric vehicle ) चलाना कहीं ज्यादा किफायती साबित हो सकता है और वह भी बिना प्रदूषण। ऐसे में अब जेमोपाई इलेक्ट्रिक नाम ( gemopai electric miso ) की इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता कंपनी ने शुक्रवार को मार्केट में अपना मिनी e-scooter मीसो ( gemopai electric miso electric scooter ) पेश कर दिया है। ये स्कूटर एक बार फुल चार्ज होने के बाद पूरे 75 किलोमीटर का सफर तय कर सकता है।

ये स्कूटर न सिर्फ पर्यावरण के लिए बेहद खास है क्योंकि यह प्रदूषण नहीं फैलाता बल्कि कोरोनावायरस पर भी प्रहार करने के लिए काम आएगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह स्कूटर सिर्फ सिंगल सीट का है। जी हां इस स्कूटर में एक बार में सिर्फ एक ही व्यक्ति बैठकर इसे चला सकता है और यह आकार और वजन में काफी हल्का है जिसकी वजह से इसकी रेंज काफी ज्यादा हो जाती है और एक बार फुल चार्ज करने के बाद यह 75 किलोमीटर तक का सफर तय कर लेता है यह किसी मिनी स्कूटर के हिसाब से काफी बड़ी बात है।

जेमोपाई इलेक्ट्रिक की तरफ से यह दावा किया गया है कि इस स्कूटर को महज 2 घंटे में 90% तक चार्ज किया जा सकता है। अगर कंपनी का याद दावा सही है तो यह स्कूटर काफी फायदेमंद साबित होगा खासकर कि प्रदूषण कम करने में क्योंकि अगर यह जल्दी चार्ज हो जाए तो कई बार इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

जेमोपाई इलेक्ट्रिक के को फाउंडर अमित राज सिंह ने कहा है कि ऐसे समय में हम जब संकट का सामना कर रहे हैं हमारे सामने असुरक्षित रहते हुए कारोबार को बनाए रखना एक चुनौती है और ऐसे में ये स्कूटर ट्रांसपोर्ट का एक सुरक्षित विकल्प है।

खास बात यह है कि इस स्कूटर को चलाने के लिए लाइसेंस या किसी रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस की परमिशन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ऐसे में अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं तो वह भी साइकिल की जगह एस मिनी स्कूटर का इस्तेमाल कर सकते हैं और यह पूरी तरह से सुरक्षित है क्योंकि इसकी मैक्सिमम स्पीड महज 25 किलोमीटर प्रति घंटा है। ये स्कूटर न सिर्फ पर्यावरण के लिए लाभदायक है बल्कि इससे आपका काफी खर्च बचेगा और आपको पेट्रोल डीजल पर पैसे नहीं खर्च करने पड़ेगे।

आपको बता दें कि इस स्कूटर को दो मॉडल्स में पेश किया गया है जिनमें से एक सामान लाने ले जाने के लिए कैरियर है जो 120 किलोग्राम का वजन उठा सकता है तो वहीं दूसरा सिर्फ एक सीट वाला स्कूटर है जो आपके लिए ट्रांसपोर्ट का अच्छा विकल्प साबित होगा और 2 घंटे में 90% चार्ज हो जाने की वजह से आप इसे आसानी से इस्तेमाल करके इसे दोबारा इस्तेमाल के लिए चार्ज भी कर सकते हैं।

Vineet Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned