FasTag: 1 दिसंबर से लागू होने जा रहा है नियम, जानिए इससे जुड़े हर सवाल के जवाब

  • FasTag Faq: जुड़ी कई बातों से ज्यादातर लोग हैं अनजान
  • इन बातों को जानना है आपके लिए बेहद ही जरूरी
  • FasTag से आपको टोल पर नहीं होगी कोई दिक्कत

By: Vineet Singh

Updated: 28 Nov 2019, 12:01 PM IST

नई दिल्ली: देश भर के टोल प्लाज़ा ( toll plaza ) पर 1 दिसंबर से फास्टैग ( FasTag ) लागू होने वाला है। फास्ट टैग ( fast tag plans ) की मदद से जहां जाम से निजात मिलेगी वहीं लोगों का काफी समय बचेगा साथ ही ये पूरी प्रक्रिया कैशलेस हो जाएगी। लेकिन अभी भी लोगों को फास्ट टैग के बारे में कई जरूरी चीज़ें नहीं पता है। लेकिन चिंता की कोई बात नहीं पत्रिका फास्ट टैग ( FasTag ) से जुड़ें हर सवाल का जवाब अपने पाठकों तक पहुंचा रहा है।

Ather लॉन्च करेगा सस्ता स्कूटर, एक बार की चार्जिंग में तय करेगा अच्छी-खासी दूरी

Q. 1 क्या गाड़ियों में कंपनियां खुद लगा रही हैं FasTag

दो साल से नए वाहनों में फास्ट टैग ( fast tag plans on toll plaza ) अनिवार्य है और कंपनियां पहले से ही FastTag लगाकर दे रही हैं। यदि आपके पास दो साल से ज्यादा पुरानी गाड़ी है और आपने अभी तक फास्टैग नहीं लगवाया है तो यह आपके लिए अनिवार्य होने जा रहा है। पुरानी गाडियां जिसमें Fastag नही लगी है केवल उनमें लगवाना अनिवार्य है।

Q.2 FASTag का बैलेंस कैसे चेक कर सकते हैं

FASTag खरीदने पर, ग्राहक जारीकर्ता एजेंसी की वेबसाइट पर शेष राशि की जांच कर सकते हैं। पंजीकृत मोबाइल नंबरों पर हर टोल लेनदेन के बाद ग्राहकों को एसएमएस अलर्ट भी मिलेगा। आपने जो मोबाइल नबंर FasTag के लिए रजिस्टर्ड किया है उस नंबर पर आपके बैलेंस की जानकारी आ जाएगी।

Q. 3 FASTag को कैसे ब्लॉक करें?

ग्राहक अपनी जारीकर्ता एजेंसी के ग्राहक देखभाल नंबर को कॉल कर सकते हैं और अपने FASTag खातों को ब्लॉक कर सकते हैं

Q. 4 FASTag स्कैनर अगर खराब हो जाए तो कैसे भुगतान कर सकेंगे?

कई टोल प्लाजा पर Fastag को स्कैन करने के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन डिवाइस ( RFID ) लगाई जा रही हैं। वहीं अगर आप भी टोल प्लाजा से गुजरते हैं और वहां का RFID स्कैनर खराब हो तो क्या होगा। क्या आपको कैश में टोल चुकाना होगा। NHAI के मुताबिक अगर किसी टोल पर RFID स्कैनर में कोई खराबी है और फास्टैग को स्कैन नहीं कर पा रहा है, तो इसके लिए वाहन चालक को कोई कोई पैसा नहीं चुकाना होगा और उसे फ्री में जाने की इजाजत दी जाएगी।

BS6 इंजन से लैस है मारुति की ये कार, 22.6 किमी प्रति लीटर माइलेज और कीमत 3 लाख रुपए

अगर आप टोल प्लाजा से गुजरते हैं और RFID स्कैनर मशीन में खराबी है, और वह गाड़ी में फास्टैग को स्कैन नहीं कर पाता है तो और टोल प्लाजा का गेट नहीं खुलता है, तो नेशनल हाईवे फी रूल्स के मुताबिक टोल प्लाजा संचालक बिना टोल के ही जाने देगा। साथ ही वह मैनुअल तरीके जीरो फीस की रसीद भी काटेंगे, ताकि उस गाड़ी का रिकॉर्ड दर्ज हो जाए। वहीं, अगर आपकी गाड़ी पर Fastag नहीं लगा है और आप टोल प्लाजा पर Fastag लेन से निकलना चाह रहें, तो आपको दोगुनी राशि चुकानी होगी। हालांकि, टोल प्लाजा पर एक लाइन बिना Fastag वाहनों के लिए भी होगा और इससे सामान्य टैक्स वसूला जाएगा।

Q.5 FasTag खरीदने के लिए कौन कौन से डॉक्युमेंट जरुरी हैं?

  1. गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
  2. गाड़ी मालिक की पासपोर्ट साइज फोटो
  3. गाड़ी मालिक का केवाईसी डॉक्यूमेंट। जैसे- आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ।
  4. फास्ट टैग खरीदते समय इन सभी दस्तावेजों की ऑरिजनल कॉपी जरूर साथ रखें।

Q.6 क्यों जरूरी है FASTag?

सरकार ने 1 दिसंबर, 2019 से सभी वाहनों के लिए FASTag (इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह) को अनिवार्य कर दिया है। FASTag से फिट नहीं होने वाले वाहनों को राष्ट्रीय राजमार्गों के साथ टोल प्लाजा पर 'FASTag लेन' का उपयोग करने पर दोगुना टोल शुल्क लिया जाएगा।

Q.7 आखिर FASTag से होते हैं कौन से फायदे

FASTag टोल प्लाजा पर वाहनों की गैर-रोक-रोक सुनिश्चित करता है, कैशलेस भुगतान करता है और यातायात की भीड़ को कम करता है। इसके अलावा, सरकार 2019-20 के लिए FASTag के उपयोग के लिए सड़क उपयोगकर्ताओं को प्रोत्साहित करने के लिए 2.5 प्रतिशत का कैशबैक दे रही है।

फास्ट टैग के बारे में ज्यादातर जानकारियां हमने आपके साथ साझा कर दी हैं, लेकिन भविष्य में फास्टैग से जुड़े किसी भी तरह के अपडेट को हम आपसे साझा करेंगे।

Show More
Vineet Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned