बाबरी नही मंदिर विध्वंस में मिलेगी फांसी तो होगा मंजूर : डॉ रामविलास दास वेदांती

बाबरी नही मंदिर विध्वंस में मिलेगी फांसी तो होगा मंजूर : डॉ रामविलास दास वेदांती

Satya Prakash | Publish: Jul, 20 2019 10:57:42 PM (IST) Ayodhya, Ayodhya, Uttar Pradesh, India

बाबरी विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत 9 महीने में सुना सकती है अपना फैसला

अयोध्या : 1992 में हुए विवादित ढांचा विध्वंस को लेकर अब लखनऊ के सीबीआई की विशेष अदालत 9 माह के अंदर अपना फैसला सुना सकती हैं। विवादित ढांचा विध्वंस को लेकर चल रहे मुकदमे में सुप्रीम कोर्ट ने लगातार सुनवाई कर जल्द से जल्द फैसला देने की बात कही जिसके बाद बाबरी विध्वंस के आरोपी पूर्व राज्य सभा सांसद विनय कटियार और पूर्व सांसद डॉ रामविलास दास वेदांती ने कहा कोर्ट को निर्णय जल्द देना चाहिए। जो भी अदालत का निर्णय आएगा उसे माना जाएगा ।

वहीं बीजेपी के पूर्व सांसद डॉ रामविलास दास वेदांती ने कहा मैंने मस्जिद नहीं रामजन्मभूमि के खंडार को तोड़ा है। इसके लिए मुझको आजीवन कारावास या फांसी होती है तो सजा भुगतने के लिए तैयार हूं। उन्होंने दावा करते हुए कहा जहां रामलला विराजमान है वहां मस्जिद कैसे हो सकती है। इसका प्रमाण है जब ढांचा टूटा तो उसके अंदर हनुमान जी, दुर्गा माता, गणेश जी और वराह भगवान की मूर्ति मिली। मस्जिद का कोई चिन्ह नहीं मिला। उन्होंने कहा वहां बाबरी नाम की कोई चीज ही नहीं, वहां केवल राम लला का मंदिर था। इस बात की पुष्टि हाई कोर्ट ने 30 सितंबर 2010 को अपने निर्णय में कर दिया है, कि जहां रामलला विराजमान है वहीं राम की जन्मभूमि है ।इस बात को सुप्रीम कोर्ट भी मानना चाहिए।

भाजपा के पूर्व राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने कहा काफी लंबे समय से केस चल रहा है। अब फैसला अदालत को करना है ।उन्होंने कहा वो बाबरी विध्वंस है ही नहीं, वो जीर्णशीर्ण ढांचा था जो गिर गया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned