राममंदिर बनने के साथ ही सरकार यहां के हुनरमंदों की करेगी ब्रांडिंग, श्रद्धालुओं और पर्यटकों के लिए बेहद खास होगी नई अयोध्या

भव्य राममंदिर निर्माण के साथ प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अयोध्या में पर्यटकों के लिए एग्रो बेस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने की दिशा में भी काम कर ही है।

अयोध्या. भव्य राममंदिर निर्माण के साथ प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अयोध्या में पर्यटकों के लिए एग्रो बेस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने की दिशा में भी काम कर ही है। इसमें यहां की सांस्कृतिक, पौराणिक और कृषि आधारित वस्तुओं को लघु उद्योगों से जोड़ने की तैयारी है। इन सभी की ब्रांडिंग करके सरकार इसे विश्व पटल पर चमकाने की तैयारी में है। इससे जुड़े हुनरमंदों को सरकार कम ब्याज दर पर लोन भी दिलाएगी। इससे स्थानीय हुनरमंदों को रोजगार तो मिलेगा ही साथ ही पर्यटक अयोध्या की स्थानीय वस्तुओं से रूबरू भी हो सकेंगे। इसके लिए पूरा प्रस्ताव तैयार हो रहा है, जिसे जल्द ही सीएम सोगी के सामने पेश किया जाएगा। एक अनुमान के मुताबिक भगवान राम का मंदिर बन जाने के बाद अयोध्या में रोजाना कम से कम 50 हजार पर्यटक और श्रद्धालु आएंगे। ऐसे में पर्यटक और श्रद्धालु अयोध्या की अपनी स्थानीय वस्तुओं को खोजेंगे। साथ ही इसको अपने साथ ले भी जाना चाहेंगे। इसको लेकर प्रदेश सरकार आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत काम करने की योजना बना रही है। इसमें कौशल विकास मिशन, संस्कृति विभाग, लघु उद्योग विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण समेत दूसरे विभाग मंथन कर रहे हैं। शासन स्तर पर दो बार सभी विभागों की बैठकें भी हो चुकी हैं।

एग्रो बेस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाये जाने की तैयारी

दरअसल अब तक अयोध्या के लिए जो स्वरूप सामने आया है उसके मुताबिक अयोध्या में एक एग्रो बेस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाये जाने की तैयारी है। इसके लिए अलग से कोई जगह निर्धारित नहीं की जाएगी, बल्कि मौजूदा समय में हाईवे के किनारे बसे लोगों को ही ट्रेनिंग और फाइनेंस की सुविधा देकर उन्हें मौका दिया जाएगा। अयोध्या के लिए खासतौर पर मूर्ति कला, पौराणिक कथाओं के आधार पर आधारित उद्योग को बढ़ावा देने की योजना है। अयोध्या में मूर्ति कला पर सालों से काम हो रहा है। साथ ही यहां पर मिट्टी के बर्तन बनाने से लेकर मूर्तियां सहित दूसरे मिट्टी के समान कुम्हार बनाते आ रहे हैं। पर्यटन की दृष्टि से इसको पहले के मुकाबले ज्यादा विकसित कर ब्रांडिंग की जाएगी। मशहूर फैजाबादी गुड़. अचार, मुरब्बा व चुनिंदा पेड़ों की नर्सरी लगाने की ट्रेनिंग दी जाएगी। कुल मिलाकर ये है कि यहां की स्थानीय हुनरमंदों के लिए नई अयोध्या में बहुत कुछ होगा।



हो चुकी बैठक

उत्तर प्रदेश सरकार में भूमि अधिग्रहण समिति के अध्यक्ष और विषय विशेषज्ञ डॉ. विनोद श्रीवास्तव ने बताया कि अयोध्या में इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने के लिए बैठक हो चुकी है। कौशल विकास, लघु उद्योग, राष्ट्रीय मार्ग प्राधिकरण, संस्कृति विभाग सहित कई विभागों की संयुक्त बैठक हुई है। इसमें अयोध्या को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के साथ अयोध्या के स्थानीय हुनरमंदों की ब्रांडिंग किये जाने की तैयारी हैं। इसमें लघु उद्योगों के तहत सरकार कम ब्याज व आसान किस्तों पर लोन दिलाएगी। इससे अयोध्या का रोजगार तो बढे़गा ही साथ में आत्मनिर्भर भारत की भी तस्वीर दिखाई देगी।


बैठक में शामिल हुए नृपेन्द्र मिश्र

अयोध्या के समग्र विकास की प्रस्तावित योजनाओं पर मंथन के लिए रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की मंदिर निर्माण समिति की ईकाई के अध्यक्ष नृपेन्द्र मिश्र सोमवार को लखनऊ पहुंचकर हाईपावर कमेटी की बैठक में शामिल हुए। दरअसल रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला के मंदिर के साथ अयोध्या के समग्र विकास का मास्टर प्लान तैयार करने के लिए अभी विश्व स्तरीय कंसल्टेंट नियुक्त किया जाना है। इसके लिए प्रदेश सरकार की ओर से नामित नोडल विभाग आवास एवं शहरी नियोजन की ओर से टेंडर निकाला जा चुका है। जिसको लेकर इस बैठक में अहम चर्चा हुई। लखनऊ में रात्रि विश्राम के बाद नृपेन्द्र मिश्र मंगलवार को अयोध्या पहुंचेंगे। दो दिवसीय दौरे के दौरान वह यहां रामलला के दर्शन के साथ ट्रस्ट महासचिव चंपत राय समेत दूसरे ट्रस्टियों से भेंट कर अलग-अलग विषयों पर चर्चा करेंगे।


महंत नृत्य गोपालदास पहुंचे अयोध्या

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास कोरोना महामारी से जंग जीतकर सोमवार को अयोध्या पहुंचे। वह अपने दो शिष्यों के साथ गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे। उनके रामनगरी आगमन के बाद से अब फिर भव्य राम मंदिर के निर्माण का काम गति पकड़ेगा। नृत्य गोपालदास एयर एंबुलेंस से अयोध्या पहुंचे। जहां जिलाधिकारी अनुज झा के साथ अयोध्या के अन्य साधु-संतों ने उनका स्वागत किया। कोरोना वायरस से जंग जीतने वाले महंत नृत्य गोपाल दास का अयोध्या में नायकों की तरह स्वागत किया गया।

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned