देव दीपावली पर दिखा अयोध्या में सब शांति शांति है

अयोध्या फैसले के बाद देव दीपावली पर्व पर सरयू घाट व कुंडों को दीपों से किया गया रोशन

अयोध्या : राम जन्मभूमि पर उच्चतम न्यायालय के फैसले पर पूरे विश्व की नजर अयोध्या पर रही। वहीं जिसको लेकर तरह तरह के कवायत भी लगाए जा रहे थे। लेकिन अयोध्या नगरी हमेशा की तरह इस बार भी आपसी सौहार्द की मिसाल पेश की और बेहद शांति सौहार्द पूर्वक सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का स्वागत किया। और यही सौहार्द पूरे विश्व को यह संदेश देने का काम किया कि अयोध्या में सब शांति शांति है। और अयोध्या फैसले के बाद कार्तिक पूर्णिमा मेला व देव दीपावली बड़ें ही धूमधाम से मनाया गया। सरयू घाट से लेकर मठ मंदिरों व प्रमुख कुंडों पर देव दीपावली पर बड़ी संख्या में दीप जलाया गया।

कार्तिक महीने की पूर्णिमा के दिन काशी में देव दिपावली मनाने की परंपरा रही है। जो कि यह परंपरा अब अयोध्या में अपना स्वरूप तैयार कर रहा है। दीपावली के 15 दिन बाद कार्तिक पूर्णिमा पर पवित्र स्थलों पर स्नान कर दीपदान करने का विशेष महत्व माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि आज के दिन सभी देवी देवता पृथ्वी पर आते हैं। वही पौराणिक कथा के अनुसार भगवान शिव ने इस दिन देवी देवताओं को राक्षस त्रिपुरासुर के प्रकोप से मुक्त कराया था। इसी खुशी में सभी देवताओं ने शिव की नगरी काशी में दीप जलाया था। उसी दिन से देव दीपावली मनाए जाने की परंपरा बनी।

देव दीपावली पर जहां मां सरयू की आरती उतारी गई वही अयोध्या के प्रमुख कुंड दंत धावन कुंड पर स्थानीय नागरिकों द्वारा बड़ी संख्या में दीपदान किया गया। जिसे देखने के लिए अयोध्या में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रही। इस दौरान स्थानीय निवासी मोहित गुप्ता ने बताया कि अयोध्या में रामलला के पक्ष में फैसला आने पर इस वर्ष देव दीपावली पूरी अयोध्या में मनाया जा रहा है।

Show More
Satya Prakash
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned