scriptArtists from all over the country gathered in Pakhawaj Festival | सरयू तट पर पखावज महोत्सव में जुटे देशभर के कलाकार | Patrika News

सरयू तट पर पखावज महोत्सव में जुटे देशभर के कलाकार

अयोध्या में राम की पैड़ी पर केंद्रीय संगीत नाट्य अकादमी नई दिल्ली और अयोध्या को संस्थान के द्वारा पखावज महोत्सव का हुआ आयोजन

अयोध्या

Published: March 29, 2022 10:58:16 am

अयोध्या. समाज के बदलते परिवेश में लुप्त हो रही मृदंग परम्परा को स्थपित करने के लिए स्वर्गीय पागल दास के स्मृति में पखावज महोत्सव का आयोजन किया गया। इस दो दिवशीय आयोजन के पहले दिन उनके शिष्य विजय प्रकाश व अजय प्रकाश ने अपनी प्रस्तुति दी साथ ही देश के मुम्बई, पुणे, दिल्ली व उत्तर प्रदेश के कई क्षेत्रों से आये कलाकारों के भी मृदंग वादन की प्रस्तुति से उत्साहित हुए।
सरयू तट पर पखावज महोत्सव में जुटे देशभर के कलाकार
सरयू तट पर पखावज महोत्सव में जुटे देशभर के कलाकार
अयोध्या में दो दिवसीय महोत्सव का आयोजन

ध्या के सरयू तट स्थित राम की पैड़ी पर अयोध्या शोध संस्थान व केंद्रीय संगीत नाट्य एकेडमी के द्वारा मृदंग कला की स्थापित करने वाले डॉक्टर राम शंकर दास उर्फ पागल दास के जन्म शताब्दी दिवस के उपलक्ष्य में पखावज महोत्सव के दो दिवशीय आयोजन का उद्घाटन रामबल्हभा कुछ क्या अधिकारी राजकुमार दास के द्वारा दीप प्रजनन कर किया गया। तो वहीं मृदंग कला कलाकारों को अंगवस्त्र से सम्मानित भी किया गया। इस कार्यक्रम में अयोध्या में स्थानीय लोगो के साथ संत समाज भी शामिल हुए। तो वहीं युवाओं के लिए हार्मोनियम के साथ मृदंग का स्वर आकर्षण बना रहा।
देश के विभिन्न स्थानों के कलाकार महोत्सव में हुए शामिल

इस कार्यक्रम के आयोजक अयोध्या शोष संस्थान के अधिकारी हरि द्विवेदी ने बताया कि अयोध्या के डॉक्टर राम शंकर दास जिसको दुनिया पागल दास के नाम से जानती है वह पूरे विश्व में मृदंग के महान कलाकार थे जिन्होंने मृदंग की शुरुआत कराई आज उनके जन्म शताब्दी दिवस के उपलक्ष में केंद्रीय संगीत नाट्य अकादमी नई दिल्ली और अयोध्या को संस्थान के द्वारा पखावज महोत्सव का आयोजन किया गया है इस नई दिल्ली लखनऊ दिल्ली मुंबई पुणे उज्जैन जैसे कई अन्य स्थानों के भी कलाकार इस आयोजन में शामिल होने के लिए आए हुए हैं वही बताएं कि इसका मुख्य उद्देश्य यही है कि जो अपनी पारंपरिक वाद व विधाएं है। उनको पुनर्जीवित करें और संरक्षित करें। इसके लिए सभी को एक मंच पर लाने के लिए इस मंच का आयोजन किया गया है साथ ही इसका उद्देश्य है कि ऐसे कलाकारों को रोजी रोजगार के साधन भी प्राप्त हो पखावज आज की दुनिया में लिप्त हो गया है। क्योंकि तबला नाल, ढोलक, से भी पीछे हो गया है। इस आयोजन के माध्यम से पुनः समाज स्थपित करने का प्रयास कर रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मामले के बीच गोवा के सीएम का बड़ा बयान, प्रमोद सावंत बोले- 'जहां भी मंदिर तोड़े गए फिर से बनाए जाएं'BJP को सरकार बनाने के लिए क्यों जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारीआक्रांताओं द्वारा तोड़े गए मंदिरों के बारे में बात करना बेकार है: सद्गुरुबेल्जियम, पहला देश जिसने मंकीपॉक्स वायरस के लिए अनिवार्य किया क्वारंटाइनएशिया कप हॉकी: पहले ही मैच में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान, ऐसा है दोनों टीमों का रिकॉर्डआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट की बात कर रहे हैं, जानें क्या है यह एक्टकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थितिअफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.