अयोध्या प्रशासन पर मंदिर तोड़ने का आरोप, महंत का आत्महत्या की चेतावनी

अयोध्या में जिला प्रशासन ने नजूल की भूमि पर चलाया जेसीबी, उजड़े कई घर परिवार

By: Satya Prakash

Published: 01 Mar 2021, 11:53 PM IST

अयोध्या. राम नगरी अयोध्या में जिला प्रशासन पर विकास के नाम पर मंदिर ढहाए जाने का आरोप लगा है जिसको लेकर मंदिर पुजारी ने चेतावनी दी है कि अगर न्याय नही मिला तो वह मंदिर के ही सामने आत्महत्या कर लेंगे। जिसको अब समाज वादी पार्टी भी जिला प्रशासन के साथ योगी सरकार पर गरीबों को बिना नोटिस घर उजाड़ने का आरोप लगाया है।

अयोध्या के विकास को लेकर परिक्रमा मार्ग नजूल की भूमि खाली कराए जाने कार्यवाही पर समाज वादी पार्टी के पूर्व राज्यमंत्री तेज नारायण पांडेय ने जिला प्रशासन पर आरोप लगाया है कि विकास के नाम पर दोराही कुआं क्षेत्र के दर्जनों घर को बिना नोटिस दिये गिरवा दिए। यही नहीं इस क्षेत्र में स्थित एक हनुमान मंदिर को भी गिरा दिया गया। उन्होंने कहा कि दोराही कुआं के क्षेत्र के लोगों ने उनसे शिकायत की कि नजूल से उनका पट्टा है और नगर निगम में उनका मकान भी दर्ज है।इसके बावजूद जिला प्रशासन ने बिना नोटिस दिए हुए दर्जनों मकान जेसीबी मशीन से नेस्तनाबूद कर दिए। और उनका सारा सामान बिखरा पड़ा हुआ है।

वहीं परिक्रमा मार्ग पर गिराए गए हनुमान मंदिर के महंत सनत दास रामायणी ने कहा कि वह कहीं गए हुए थे और बिना नोटिस दिए हुए योगीराज में हनुमान मंदिर पर जेसीबी मशीन चलवा दी गई।अगर उन्हें न्याय नहीं मिला तो वे उसी मंदिर के सामने आत्महत्या कर लेंगे और उनकी समाधि वही बनेगी।

Ram Mandir
Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned