दीयों की रोशनी से अयोध्या जगमग, राममंदिर में पहली बार जले 11 हजार दीप

- 24 घाटों पर करीब 6 लाख दीये बने मुख्य आकर्षण

अयोध्या. राम की नगरी अयोध्या धनतेरस के मौके पर ही जगमग हो गई और छोटी दीपावली के मौके पर शुक्रवार को यहां दीपोत्सव मनाया गया। पहली बार रामलला मंदिर में 11 हजार दीप जलाए गए। इस दौरान राम की पैड़ी के घाटों पर एक साथ करीब छह लाख दीपक जलाकर नया गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड बना। प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला के मंदिर के सामने दीपक जलाकर विशेष पूजन किया। दीपोत्सव के लिए पूरी अयोध्या सज-संवर कर दुल्हन की तरह तैयार थी। राम की पैड़ी के साथ धर्मनगरी की सड़कें और गलियां जगमग थीं। सरयू का तट भी प्रकाश से आलोकित हो रहा था। दीपोत्सव का अनावरण करने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल फैजाबाद हेलीपैड पर शुक्रवार अपराह्न तीन बजकर पांच मिनट पर उतरे और सड़क मार्ग से वह रामजन्मभूमि तीन बजकर दस मिनट पर पहुंचे। पूजा-अर्चना के बाद वे दोनों यहां से रामकथा पार्क रवाना हो गए। दोपहर साढ़े तीन बजे दोनों ने प्रभु राम के स्वरुपों की अगवानी की और उन्हें रामकथा पार्क के मंच पर लेकर आए।

 

मुख्यमंत्री व राज्यपाल ने किया राजतिलक

यहां श्रीराम राज्याभिषेक समारोह दोपहर साढ़े तीन बजे से शुरु होकर शाम पांच बजे तक चला। इस दौरान मुख्यमंत्री व राज्यपाल ने भगवान का राजतिलक किया। दोनों ने दीपोत्सव पर डाक विभाग की ओर से जारी विशेष कवर का अनावरण करके समारोह को सम्बोधित किया। उसके बाद रामकथा पार्क से स्वर्गद्धार घाट पहुंचे और मां सरयू की आरती में हिस्सा लिया। शाम छह बजे मुख्यमंत्री व राज्यपाल दीपोत्सव के लिए रामपैड़ी पहुंचे और छह बजकर पांच मिनट पर दीपोत्सव का शुभारम्भ किया। यहां से राज्यपाल वापस लखनऊ चली गईं। जबकि शाम करीब साढ़े सात बजे मुख्यमंत्री रामपैड़ी से निकलकर फिर रामकथा पार्क में रामलीला के मंचन का अवलोकन करने पहुंचे और रात्रि आठ बजे वह रात्रि विश्राम के लिए सर्किट हाउस पहुंचे।

 

हनुमानलला के करेंगे दर्शन

मुख्यमंत्री रविवार की सुबह हनुमानगढ़ी में विराजमान हनुमंतलला का दर्शन करेंगे। कार्तिक कृष्ण चतुर्देशी के पर्व पर शनिवार की मध्यरात्रि में हनुमान जी की जयंती मनाई जाएगी। प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले जयंती पर्व पर मुख्यमंत्री यहां दर्शन के लिए आते रहे हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री रामलला के दरबार में भी हाजिरी लगाएंगे और पुन: वह कारसेवकपुरम में संत-महंतों व जनप्रतिनिधियों से शिष्टाचार भेंट कर पर्व की बधाई देंगे। इसके बाद वह गोरखपुर के लिए प्रस्थान करेंगे।

 

यूपी के कलाकारों के कायल हुए राम भक्त

दिव्य दीपोत्सव के महाआयोजन में अयोध्या के राजकीय तुलसी उद्यान में सूचना एवम् जनसंपर्क विभाग उत्तर प्रदेश की तरफ से 'तुलसी कथा रघुनाथ की' प्रदर्शनी लगाई गई। प्रदर्शनी में भगवान राम की समस्त लीलाओं का चित्रों के माध्यम से वर्णन किया गया। जिसे देखने के लिए पंडाल पर प्रतिदिन हजारों लोग उमड़े। प्रदेश के कलाकारों द्वारा बनाई गईं उम्दा चित्रकला प्रदर्शनी में राजसूय यज्ञ, राम जन्मोत्सव, राम विवाह, राम वन गमन, केवट प्रसंग, भरत द्वारा पदुका ग्रहण करना, सीताहरण, शबरी प्रसंग, लंका दहन, संजीवनी बूटी, रावण वध, राम राज्याभिषेक प्रसंग आदि के चित्र हृदय स्पर्शी दिखे, जिन्होंने पंडाल में आने वाले दर्शनार्थियों को त्रेतायुग की याद दिलाई। तुलसी उद्यान में एक ओर जहां राम कथा सचित्र वर्णन दिखा। वहीं बड़ी एलईडी टीवी के माध्यम से रामायण का निरंतर प्रसारण हो रहा था। ये प्रदर्शिनी 30 नवम्बर तक चलेगी।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned