Ayodhya development : राम मंदिर के पास नई बिल्डिंग निर्माण पर लगी रोक

राम कोट क्षेत्र में पुराने भवनों के पुनः निर्माण के लिए जिलाधिकारी से अनुमति लेने का बना प्राविधान

By: Satya Prakash

Published: 03 Jul 2021, 09:59 AM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या. राम जन्मभूमि परिसर ( Ram Janmbhumi Parisar ) के आसपास नहीं बनेगी बिल्डिंगें अयोध्या विकास प्राधिकरण ( ayodhya development Authority ) बोर्ड की बैठक में राम जन्मभूमि परिसर के आसपास के क्षेत्र को विकसित किए जाने की तैयारी पर मंथन किया गया। तो वही मंदिर की भव्यता को देखते हुए 100 मीटर की परिधि में नए भवन के निर्माण को प्रतिबंधित कर दिया गया है।

राम मंदिर की भव्यता के लिए ऊंची बिल्डिंग ऊपर भी लगी रोक

Ram Mandir परिसर की सुरक्षा के लिए अयोध्या विकास प्राधिकरण बोर्ड की ओर से सचिव आरपी सिंह की अध्यक्षता में गठित की गई कमेटी की पहली बैठक की गई जिसमे कई अहम निर्णय लिए गए। बैठक में निषेधाज्ञा का नया मानक निर्धारित करते हुए राम जन्मभूमि परिसर के 100 मीटर की परिधि में नए भवन निर्माण को पूरी तरह से वर्जित कर दिया गया है तो वहीं स्थित पुराने भवन को पुनः हैरिटेज स्वरूप का निर्माण जिलाधिकारी के अनुमति से किया जाएगा तो वही परिसर के से 300 मीटर के क्षेत्र में बहुमंजिला इमारत यानि साढ़े 12 मीटर से ऊंचे भवन का निर्माण नही हो सकेगा।

परिसर की सुरक्षा के लिए नई कमेटी का गठन

राम जन्मभूमि परिसर को हेरटेज क्षेत्र बनाए रखें की सुरक्षा को लेकर विकास प्राधिकरण के सचिव आरपी सिंह की अध्यक्षता में गठन किया गया जिसमें अपर जिलाधिकारी कानून व्यवस्था पीडी गुप्ता, एसपी सुरक्षा पंकज पांडे, एसोसिएट नगर एवं ग्राम नियोजक निलेश सिंह कटियार व विकास प्राधिकरण के अधिशासी अभियंता एके राय का नाम शामिल किया गया।

नगर निगम के विस्तार के बाद हेरिटेज नियमावली में भी हुए बदलाव

गठित कमेटी की अध्यक्षता कर रहे आरपी सिंह ने बताया कि अयोध्या विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण की ओर से वर्ष 1998 में हैरिटेज नियमावली बनाई गई थी यह नियमावली तत्कालीन अयोध्या नगर पालिका परिषद क्षेत्र के लिए निर्धारित की गई थी इस नियमावली को घोषित करने से पहले आमजन से आपत्तियां मांगी गई नियमावली की अधिसूचना जारी होते ही अयोध्या में कोहराम मच गया भारी विरोध प्रदर्शन के कारण नियमावली को स्थगित कर दिया गया अब अयोध्या का भूगोल और नगरपालिका का स्वरूप बदल कर नगर निगम हो चुका है इसके अलावा राम जन्मभूमि विवाद का पटाक्षेप भी हो गया है तो उसे राम कोट क्षेत्र तक सीमित कर नया निषेधाज्ञा मानक बनाया गया है इस मानक के अनुसार कई नई व्यवस्थाओं को प्रभावित किया जा रहा है।

Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned