Bhaumvati Amavasya : सौ वर्ष के बाद पड़ी भौमवती अमावस्या, हनुमान के साथ शनि भगवान की करें पूजा

ज्येष्ठ मास के अमावस्या तिथि को भौमवती अमावस्या कहा जाता है।

By: Mahendra Pratap

Published: 15 May 2018, 05:12 PM IST

अयोध्या : सौ वर्ष के बाद मिला आज सबसे ऊत्तम दिन आज कई पवित्र तिथि होने कारण वर्ष का सबसे बड़ा माना जाता है। ज्येष्ठ मास के अमावस्या तिथि को भौमवती अमावस्या कहा जाता है। तीन वर्ष के बाद पड़ने वाली यह अमावस्या वर्ष का सबसे पवित्र दिन माना जाता है इसदिन महिलाये अपने पति के लम्बी उम्र के लिए अपने साजो श्रृंगार कर वट सावित्री की पूजा करती है । तो वहीं वृष राशि में सूर्य और चंद्रमा होने से शनि का महत्व पूर्ण दिन होता है। इसलिए इस दिन शनि जयंती भी मनाते है।

शनि की पूजा करने से मिलता विशेष फल

सैकड़ो वर्ष के बाद आज ज्येष्ठ के मंगलवार के दिन अमावस्या का दिन पड़ा है इसी के साथ आज ही नक्षत्रो में सूर्य मेष राशि के निकल कर वृष राशि मे प्रवेश किया है इस राशि मे चंद्र राशि पहले से ही विराजमान है। सूर्य और चंद्र एक साथ होने से आज शनि का विशेष महत्व होता है। इस तिथि को हनुमान जी के साथ शनि भगवान की पूजा अर्चना करने से सभी दोष शांति हो जाता है । तथा ज्येष्ठ मास तिन वर्ष के बाद पड़ता है लेकिन इस वर्ष मंगलवार के दिन ज्येष्ठ अमावस्या सौ वर्ष बाद पडा है। आज के दिन सभी सुहागन महिलाएं अपने पति की दीर्घ आयु की कामना करती है और वट सावित्री की पूजा करती है।

सुहागन महिलाये निराजल व्रत रख वट वृक्ष की करती है पूजा

आचार्य राम स्वरूप ने बताया कि आज का अमावस्या भौमवती अमावस्या है। यह वर्ष के सभी मासों में सबसे पवित्र दिन होता है जो तीन वर्ष के बाद एक दिन पड़ता है। इसी दिन सावित्री देवी ने अपने पति के प्राण को भगवान से भी छीन लाई थी। इसलिए आज दिन बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन महिलाये अपने पूर्ण श्रृंगार कर सुबह से निराजल व्रत रखती है और वट वृक्ष पर सूत के धागे लपेट कर श्री सिंदूर से पूजा करती है और उसकी परिक्रमा कर अपने पति के स्वास्थ स्वस्थ होने तथा दीर्घायु होने की कामना करती है। इसी के साथ आज सूर्य और चंद्रमा वृष राशि पहुचने से शनि के लिए भी महत्वपूर्ण होता है। इसलिए आज हनुमान जी के साथ शनि भगवान की पूजा का करने से सभी पुण्य प्राप्त होते है।

Show More
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned