भव्य राम मंदिर के साथ सरकार अयोध्या में पर्यटन को भी देगी बढ़ावा, शुरू की ये तैयारी

- 60 करोड़ रुपए से सजाएंगे 148 पौराणिक कुंड, पर्यटकों की सुविधाओं के लिए नेशनल डाटा बेस तैयार कर रही है सरकार

अयोध्या. भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू होने के साथ ही अब केंद्र और प्रदेश सरकार अयोध्या में पर्यटन को बढ़ावा देने की हर संभव कोशिश में जुटे हैं। आवासीय, यात्रा और जलपान जैसी पर्यटकों की मूलभूत सुविधाओं की व्यवस्था को सुलभ करवाने के लिए सरकार नेशनल डेटाबेस तैयार कर रही है। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी आरपी यादव ने बताया कि प्रदेश सरकार ने अवर्गीकृत होटलों, लॉज, गेस्ट हाउसों, होमस्टे और अन्य आवासीय इकाइयों का पंजीकरण शुरू किया गया है। अधिकारियों की मानें तो अयोध्या के 148 कुंडों के विकास के लिए भी 60 करोड़ रुपए का प्राेजेक्ट तैयार हो रहा है। नोड अर्बन लैब को इसका प्रोजेक्ट बनाने का निर्देश दिया गया है। अयोध्या के डीएम अनुज कुमार झा ने बताया कि इस योजना के शुरुआती चरण में दशरथ कुण्ड, अग्नि कुण्ड, सीता कुण्ड, खुर्ज कुण्ड, विद्या कुण्ड, गणेश कुण्ड, हनुमान कुण्ड का प्रस्ताव बनाया गया है।

नेशनल पोर्टल पर हो रहा पंजीकरण

क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी आरपी यादव ने बताया कि सरकार की मंशा के अनुरूप अयोध्या के 35 होटलों, आवासीय इकाइयों, कमर्शियल पेइंग गेस्ट हाउसों, लाॅज और आवासीय व्यवस्था वाले ढाबा को जोड़ा जा रहा है। इनको नेशनल पोर्टल पर पंजीकरण करवाने के लिए कहा भी जा रहा है। जिससे देश विदेश पर्यटक अपनी सुविधा के मुताबिक रजिस्टर्ड आवासीय इकाइयों से सीधे संपर्क कर अपने भ्रमण के दौरान व्यवस्था कर सकें और उन्हें यहां रुकने व खाने-पीने की कोई समस्या न हो। उन्होंने बताया कि नेशनल पोर्टल पर अब तक 22 हजार होटलों व आवासीय इकाइयों का रजिस्ट्रेशन हो चुका है। जिसमें यूपी के 2380 आवासीय होटल व इकाइयां शामिल हैं। नेशनल डाटा में पंजीकरण करवाने के लिए प्रदेश के संयुक्त निदेशक अविनाश चंद्र मिश्र ने अयोध्या वाराणसी प्रयागराज, झांसी, गोरखपुर, मेरठ, मथुरा, चित्रकूट, सिद्धार्थनगर, बरेली के क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारियों और उपनिदेशकों को पत्र भी भेजा है।

दिसंबर तक पूरा होगा काम

क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी आरपी यादव के मुताबिक स्वदेश योजना के तहत अयोध्या में चल रही योजनाओं पर दिसंबर तक काम हर हाल में पूरा हो जाएगा। सभी योजनाओं पर निर्माण कार्य अंतिम चरण में हैं। इसी के साथ अब स्वदेश योजना फेज 2 को लांच कर दिया गया है। जिसमें अयोध्या के 148 पौराणिक कुंड और सरोवरों को पौराणिक पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित करने के लिए चिह्नित किया गया। ये वही कुंड हैं जिसकी पौराणिक पहचान के पत्थर इन स्थलों पर लगे हैं। इसको लेकर कमिश्नर एमपी अग्रवाल ने बताया कि अयोध्या के कुंडो के विकास के लिए 60 करोड़ का प्रॉजेक्ट तैयार हो रहा है। नोड अर्बन लैब को इसका प्रॉजेक्ट बनाने का निर्देश दिया गया है। इस योजना के प्रारम्भिक चरण में दशरथ कुण्ड, अग्नि कुण्ड, सीता कुण्ड, खुर्ज कुण्ड, विद्या कुण्ड, गणेश कुण्ड, हनुमान कुण्ड का प्रस्ताव बनाया गया है।

अयोध्या में राम मंदिर
Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned