Deepotsav 2019 : अंतरराष्ट्रीय आयोजन के इस्तकबाल को तैयार अयोध्या

बदली तस्वीर,अब सरयू की जलधारा से राम की पैड़ी में लगाएं डुबकी

पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट
अयोध्या. राममंदिर-बाबरी मस्जिद प्रकरण की चर्चा ने अयोध्या के अनूठे और ऐतिहासिक आयोजन की तैयारियों को फीका कर दिया है। योगी आदित्यनाथ सरकार अयोध्या में लगातार तीसरे साल अंतरराष्ट्रीय स्तर का दीपोत्सव कार्यक्रम करने जा रही है। यह कार्यक्रम 24 से 26 अक्टूबर तक चलेगा। अब तक के इस भव्य कार्यक्रम में देश-विदेश के मेहमान शिरकत करेंगे।

ये भी पढ़ें - ग्राउंड रिपोर्ट - अब तनाव में न बीते जीवन,अयोध्या मुद्दा पूरे देश में गरम, लेकिन शांत है रामनगरी


मुख्य कार्यक्रम स्थल सरयू घाट पर निर्माण कार्य जारी है। हालांकि, इसका असर अयोध्या की आम दिनचर्या पर और यहां के तीर्थाटन पर भी पड़ रहा है। सरयू तट के किनारे से होकर अयोध्या में प्रवेश करने वाले मुख्य मार्ग पर वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है। ताकि राम की पैड़ी ( Ram Ki Paidi ) के लिए नहर का निर्माण कार्य सुगमता से हो सके। बंधा तिराहा से लेकर रामघाट हाल्ट रेलवे स्टेशन तक सडक़ के दोनों तरफ अवैध अतिक्रमण हटवा दिया गया है। झुग्गी-झोपडिय़ों को तोड़ दिया गया है। सडक़ को चौड़ा कर दिया गया है। राम की पैड़ी में अब सरयू नदी का पानी सीधे पैड़ी से होकर वापस सरयू नदी में जाएगा। तीन दिवसीय दीपोत्सव कार्यक्रम में इस बार सिर्फ सरयू घाट ही नहीं बल्कि पूरा शहर जगमग होगा।

ये भी पढ़ें - Deepotsav 2019 : 24 अक्टूबर से अयोध्या में शुरू हो रहा है एक ऐसा उत्सव जिसकी चर्चा होगी पूरी दुनिया में


सांस्कृतिक कार्यक्रम, भजन संध्या और दीपोत्सव ( Deepotsav ) से शाम गुलजार होगी। सुरक्षा की बंदिशें तो रहेंगी लेकिन आम जनता कार्यक्रम स्थल तक पहुंच सके इसका पूरा इंतजाम किया जा रहा है। इसलिए इस बार कार्यक्रम स्थल तक ज्यादा से ज्यादा लोग पहुंच सकें इसकी अधिकारियों ने पूरी योजना बना ली है। धारा 144 के बावजूद धनतेरस और दीपावली के मद्देनजर बाजारों में रौनक है। बाबरी मस्जिद ( Babari Masjid ) मामले के मुद्दई इकबाल अंसारी कहते हैं कि इसके पहले जब हाईकोर्ट का फैसला आने वाला था तब अयोध्या में सुरक्षा बहुत कड़ी थी। लोग दहशत में थे। लेकिन इस बार अयोध्या में कोई तनाव नहीं है। केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार अच्छा काम कर रही है। अयोध्या का विकास हो रहा है। सरकार कानून व्यवस्था के मुद्दे पर बहुत सख्त है। इसलिए सभी अपने को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें - Ram Mandir Case : अयोध्या के संतों ने कहा बिना शर्त केस वापस ले वक्फ बोर्ड,नही करेंगे कोई समझौता

Show More
अनूप कुमार
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned