अयोध्या में मस्जिद के लिये यहां दी जा सकती है जमीन, मंदिर को लेकर भी यह कार्रवाई हुई तेज

मंदिर की जमीन को केंद्र सरकार से बनाए जाने वाले ट्रस्ट को सौंपने को लेकर तैयारी की जा रही है, तो मस्जिद के लिए भी जमीन तलाशने की कार्रवाई तेज हो गई है...

अयोध्या . 9 नवंबर 2019 को देश के सबसे बड़े मुकद्दमे का सबसे बड़ा फैसला सुनाते हुए सुप्रीमकोर्ट (Supreme Court Judgement on Ayodhya) ने विवादित जमीन रामलला विराजमान (Ramlala Virajman) को देने काआदेश दिया है। साथ ही यह भी कहा है कि विराजमान राम लला की यह जमीन केंद्र सरकार से बनाए जाने वाले ट्रस्ट को सौंपी जाएगी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में मंदिर और मस्जिद (Ayodhya Mandir Masjid) की जमीन को एक साथ सौंपे जाने की तैयारी है। मंदिर की जमीन को केंद्र सरकार से बनाए जाने वाले ट्रस्ट को सौंपने को लेकर तैयारी की जा रही है, तो मस्जिद के लिए भी जमीन तलाशने की कार्रवाई तेज हो गई है। जिला प्रशासन ने मस्जिद के लिये कई जमीन को चिंहित भी कर लिया है। जिसको लेकर शासन के निर्देश के बाद कोई आखिरी फैसला लिया जाएगा।


जमीन देने की तैयारियां तेज

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद तीन महीने के भीतर राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट बनाकर और उसे जमीन सौंपी जाएगी। ट्रस्ट ही राम मंदिर का निर्माण कराएगा। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में मस्जिद बनाए जाने के लिए पांच एकड़ जमीन दिए जाने का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रशासन ने मंदिर और मस्जिद के लिये जमीन सौंपने को लेकर अपनी तैयारी शुरू की है। जानकारी के मुताबिक दोनों पक्षों को अयोध्या में मंदिर और मस्जिद की जमीनों को एक साथ दिए जाने की तैयारी है। जिससे न्यायालय के आदेश का पालन किया जा सके। जमीन सौंपने को लेकर जिला प्रशासन ने तेजी के साथ तैयारी शुरू कर दी है। जिससे एक साथ मंदिर और मस्जिद की जमीनों को सौंपा जा सके।


जमीनें की जा रही चिन्हित

जिला प्रशासन ने मस्जिद के लिये रामनगरी के बाहर जिले की सभी पांचों तहसीलों में कई जमीन चिन्हित की हैं। 14 कोसी परिक्रमा पथ के बाहर सदर तहसील के सहनवां, कुशमाहा, सोहावल के धन्नीपुर के साथ ही मिल्कीपुर के एक स्थान पर प्रशासन की निगाह टिकी है। सहनवां और कुशमाहा राम नगरी से कुछ ही दूरी पर स्थित है। जबकि धन्नीपुर राम नगरी से लगभग 20 किमी दूर है। हालांकि जमीनों को चिंह्ति किए जाने को लेकर अभी जिले का कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने से मना कर रहा है।

यह भी पढ़ें: इस विधायक की दुल्हनिया बनेंगी अदिति सिंह, यह है शादी और रिसेप्शन की डेट

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned