सरकार से नहीं अधिकारियों से परेशान परिवार अनशन को मजबूर

अयोध्या में अधिकारियों की कार्रवाई से नाराज तहसील के सामने अनशन पर बैठे दो परिवार

By: Satya Prakash

Published: 06 Jan 2021, 10:51 AM IST

अयोध्या : राम नगरी अयोध्या को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार भले ही संवेदनशील हो लेकिन यहां की जनता अधिकारियों के रवैए से नाराज है। जिसके कारण आज एक ही गांव के दो अलग-अलग परिवार अपने मामले को लेकर अनशन करने बैठने पर मजबूर हैं। और आज अपने परिवार के साथ तहसील के सामने 48 घंटे से अनशन पर बैठे हुए हैं।

अयोध्या जनपद में बीकापुर तहसील के तारापुर निवासी दो परिवार के लोग सदर तहसील के तिकोनिया पार्क में इस कड़ाके की ठंढ में अनशन पर है। पहला मामला है जिसमें उप जिलाधिकारी के न्यायालय के जमीन बटवारे का देश हुआ और राजस्व कर्मियों ने मौके पर जाकर बटवारा भी करवाया लेकिन आपसी सहमति न होने पर एक पक्ष ने दूसरे पक्ष की पिटाई कर दी, हालांकि पुलिस ने मार पीट का मुकदमा दर्ज कर खानापूर्ति कर दी, लेकिन दबंग पक्ष ने न तो कब्जा दिया और पीड़ित परिवार को देख लेने की धमकी भी देते रहे। लेकिन थाने और तहसील के चक्कर लगाने के बाद जब कोई कार्यवाई नही हुई तो पीड़ित निर्माण देवी सदर तहसील के तिकोनिया पार्क में भूख हड़ताल शुरू कर दिया। वहीं न्याय के लिए जब महिला भूख हड़ताल पर बैठी तो परिवार के पुरुष और बच्चों को गोद में लिए महिलाये भी समर्थन में धरने पर बैठ गयी। पीड़ित के बेटी का तो यहां तक आरोप है कि अनशन पर बैठने के।लिए जबरन रोकने में पुलिस की खिंचा तानी में उसका बच्चा गिर गया जिससे उसका दांत भी टूट गया।

वहीं दूसरा मामला और भी संवेदनशील है तारुन थाना क्षेत्र में बनने वाली पक्की सड़क के लिए बिना मुवाबजे के ही लोक निर्माण विभाग किसान की जमीन कब्जा कर सड़क निर्माण करा रहा है, जिसको लेकर पीड़ित राजमणि अपने परिवार के साथ अनशन पर है, मामला कुछ इस तरह से जिसमें ग्राम सभा से होकर जाने वाले चकमार्ग की चौड़ाई दो मीटर है लेकिन लोक निर्माण विभाग का ठेकेदार जबरन जेसीबी चलवाकर खड़ी फसल को रौंदते हुए करीब 2.2 मीटर किसान के खेत में पक्की सड़क का निर्माण करवा रहा है। इन दोनों मामलों में सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि एक ही गांव के दो परिवारों के साथ ज्यादती हुई और दोनों ही परिवार के दर्जनों लोग 48 घंटे से अधिक समय से अनशन पर है। लेकिन प्रशासन को खबर तक नही। क्या प्रशासन इस कड़ाके की ठंड में किसी अनहोनी के इंतजार में है।

Show More
Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned