राम मंदिर निर्माण पर सरकार के सामने हिंदू महासभा ने रखी मांग

दो दिवसीय अयोध्या दौरे पर हिंदू महासभा के केंद्रीय पदाधिकारियों ने रामजन्मभूमि के संतों के साथ पक्षकारों से भी की मुलाकात

By: Neeraj Patel

Updated: 27 Nov 2019, 10:01 PM IST

अयोध्या. राम मंदिर के पक्ष में आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अखिल भारत हिंदू महासभा ने राम जन्मभूमि के आंदोलन में बलिदान होने वाले कारसेवकों की स्मृति में स्मारक बनाने के साथ प्रस्तावित राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण में मंदिर के एक भवन का नाम सबसे पहले मामला अदालत की चौखट पर ले जाने वाले गोपाल सिंह विशारद के नाम पर रखने की मांग उठाई गई है। दो दिवसीय दौरे पर अयोध्या पहुंचे अखिल भारतीय हिंदू महासभा के दर्जनों कार्यकर्ताओं ने रामलला की पूजन अर्चन के साथ अयोध्या के प्रमुख संतों और पक्षकारों से मुलाकात की। तो वहीं दूसरी तरफ संगठन के विस्तार को लेकर भी योजनाएं बनाई गई।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है केंद्र सरकार द्वारा जहां श्री राम मंदिर ट्रस्ट बनाया जा रहा है तो वही अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर भी तैयारियां की जा रही है। इस दौरान राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका में रहे अखिल भारतीय हिंदू महासभा केंद्रीय पदाधिकारी अपने संगठन विस्तार को लेकर अयोध्या पहुंचे। जहां हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने रामलला का दर्शन पूजन किया।

वहीं प्रमुख संतों से भी मुलाकात की। इस दौरान कार्यकारणी विस्तार को लेकर बैठक भी किया गया। जिसमें खाक चौक के महंत परशुराम दास को उत्तर भारत क्षेत्र प्रभारी के साथ विभिन्न पदों के लिए नियुक्ति किया गया। इस दौरान राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र कुमार द्विवेदी ने राम निर्माण को लेकर सरकार से कई मांगे भी रखी।

महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रविंद्र कुमार द्विवेदी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 492 वर्षों से राम जन्म भूमि को लेकर चले आ रहे संघर्ष पर विराम लग गया है। अब सभी को राम जन्म भूमि पर भव्य राम मंदिर के निर्माण की आकांक्षा है। या निर्माण सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्र सरकार की ओर से एक ट्रस्ट बनाकर किया जाना है। ट्रस्ट केंद्र सरकार को बनाना है लेकिन संगठन की कोशिश है कि ट्रस्ट में अच्छे लोगों को रखा जाए और भव्य तथा दिव्य राम मंदिर का निर्माण कराया जाए।

उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास की बात करने वाली भारतीय जनता पार्टी ने विकास तो किया है लेकिन उनको सुरक्षा की कमी नजर आती है। कहा कि विकास को लेकर सुरक्षा मानकों की अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बलिदानी कारसेवकों की स्मृति में रामनगरी में स्मारक बनवाए जाने की मांग का उन्होंने समर्थन किया और कहा कि पहली बार राम जन्मभूमि से जुड़ा मुकदमा अदालत में ले जाने वाले गोपाल सिंह विशारद के नाम पर प्रस्तावित राम मंदिर में एक भवन का निर्माण कराया जाना चाहिए।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned