जानकी जन्मोत्सव : छोटी देवकाली मंदिर में निभाई गई 84 वर्षों की परंपरा

जानकी अष्टमी पर 50 कदम चलकर पूरा किया गया माता जानकी की शोभायात्रा की परंपरा

By: Satya Prakash

Published: 20 May 2021, 11:20 AM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

अयोध्या : राम नगरी अयोध्या में जानकी जन्मोत्सव पर 84 वर्षो से चल रही परंपरा को पूरा किया गया देर शाम मंदिर प्रशासन के द्वारा और कुछ स्थानीय लोगों के साथ छोटे से रथ पर सवार कर माता देवकाली की शोभा यात्रा के परंपरा को निभाया गया। तो वही आज जानकी नवमी पर माता छोटी देवकाली मंदिर में भव्य आरती का आयोजन किया जाएगा लेकिन covid प्रोटोकॉल के कारण किसी भी दर्शनार्थी को शामिल नही हो सकेंगे।

स्थानीय लोगो ने पूरी की शोभायात्रा की परंपरा

राम नगरी अयोध्या में सैकड़ों वर्षों से होने वाले सभी धार्मिक आयोजनों पर कोरोना का साया मडरा रहा है पूर्व में जहां भगवान श्री राम के जन्मोत्सव पर होने वाले भव्य आयोजन को स्थगित कर दिया गया तो वहीं अब मां सीता के जन्मोत्सव पर मंदिरों में भव्यता पूर्वक नही मनाया जा सका है। सिर्फ परंपरा को पूरा किया जा रहा है। वहीं अयोध्या के मध्य स्थित छोटी देवकाली जानकी नवमी पर 9 दिवशीय आयोजन किया जाता रहा है। इस वर्ष सिर्फ परंपरा का निर्वाह किया जा रहा है। जानकी अष्टमी पर इस वर्ष सूक्ष्म शोभायात्रा निकाली गई जिसमें सिर्फ मंदिर से जुटे लोग ही शामिल रहे और यह यात्रा मंदिर से निकाल कर 50 मीटर की यात्रा कर वापस मंदिर परिसर में पहुंचा दिया गया।

अयोध्या माता छोटी देवकाली की है प्राचीन मंदिर

अयोध्या के सप्तसागर कुंड के पास स्थित छोटी देवकाली मंदिर माता सीता की कुलदेवी के रूप में पूजा की जाती है जिसका जिक्र स्कंद पुराण में भी किया गया है इस मंदिर में सैकड़ों वर्षों से माता जानकी का जन्मोत्सव मनाया जाता है यह उत्सव श्री छोटी देवकाली समाज ट्रस्ट के माध्यम से वर्षों से लगातार बृहद रूप में मनाया जाता रहा है लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण दूसरे वर्ष की पूरे आयोजन को स्थगित कर दिया गया सिर्फ परंपरा का निर्वाह किया जा रहा है।

छोटी देवकाली मंदिर के पुजारी अजय द्विवेदी ने जानकारी देते हुए बताया कि माता छोटी देवकाली प्राचीन मंदिर है सैकड़ों वर्षों से यहां की परंपरा का निर्वाह किया जाता रहा है इस वर्ष भी कोविड-19 देखते हुए जानकी जन्मोत्सव का आयोजन सीमित व्यवस्था के रूप किया जा रहा है देर शाम मंदिर से जुड़े लोग शोभा यात्रा की परंपरा का निर्वाह किया है तो वहीं आज जानकी नवमी पर 1051 बत्ती की आरती का आयोजन किया जाएगा लेकिन इसमें कोई भी बाहरी व्यक्तियों को शामिल होने की अनुमति नहीं दी गई है।

Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned