scriptLayer of granite will be laid to protect the foundation | Ram Mandir Ayodhya : नींव की सुरक्षा में बिछाए जाएंगे ग्रेनाइट की लेयर | Patrika News

Ram Mandir Ayodhya : नींव की सुरक्षा में बिछाए जाएंगे ग्रेनाइट की लेयर

अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए 32 ब्लॉक राफ्ट की भराई का कार्य किया जा रहा है यह तारीख 15 जनवरी तक पूरा कर लिया जाएगा। जिसके बाद बैंगलोर यशवंतपुर ग्रेनाइट व मिर्जापुर के बलुआ पत्थरों का कार्य शुरू किया जाएगा।

अयोध्या

Published: November 26, 2021 11:16:25 pm

अयोध्या. राम जन्मभूमि परिसर में चल रहे राफ्ट निर्माण का कार्य 15 जनवरी तक पूरा किए जाने की उम्मीद जताई गई है। साथ ही प्लिंथ निर्माण से पहले ग्रेनाइट पत्थरों की लेयर को बिछाए जाने का भी नया ग्राफ तैयार किया गया है इस कार्य के लिए मंदिर निर्माण की निगरानी को लेकर बनाई गई इंजीनियरों की समिति की रिपोर्ट के बाद निर्माण समिति के द्वारा फैसला लिया जाएगा।
 नींव की सुरक्षा में बिछाए जाएंगे ग्रेनाइट की लेयर
नींव की सुरक्षा में बिछाए जाएंगे ग्रेनाइट की लेयर
राफ्ट के ऊपर लगेगा ग्रेनाइट पत्थर

राम जन्मभूमि परिसर में मंदिर निर्माण पर देश के टॉप इंजीनियर चलने निर्माण कार्य पर रिसर्च कर रहे हैं। यही कारण है कि लगातार मंदिर की सुरक्षा को लेकर समय-समय पर आंशिक बदलाव भी किया जा रहा है दरअसल मंदिर निर्माण में नींव भराई के कार्य के बाद चल रही राफ्ट निर्माण में बदलाव किये जाने के बाद प्लिंथ निर्माण से पहले नई योजना को शामिल किया है। जिससे भविष्य में राम मंदिर व उनकी नींव को भी सुरक्षित रखा जा सके।
15 जनवरी तक पूरा होगा राफ्ट का निर्माण

राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने जानकारी देते हुए बताया कि राम जन्मभूमि परिसर में राफ्ट बनाए जाने का कार्य किया जा रहा है। जिसमें इंजीनियरों के द्वारा बताए गए नियमानुसार धुलाई की जा रही है। तो वहीं जानकारी दी। 15 जनवरी तक 30 तारीख को पूरा किए जाने के बाद प्लिंथ निर्माण का कार्य प्रारंभ होगा जो कि लगभग 20 फुट ऊंची प्लिंथ का ढाली जाएगी। वही कहा कि इस बीच एक नया विचार सामने आया है जिसमें राफ्ट के ऊपर प्रिंट निर्माण से पहले ग्रेनाइट पत्थरों की लेयर बिछाई जाए और नींव के चारों तरफ भी ग्रेनाइट को लगाया जाए। ग्रेनाइट पत्थरों को लगाए जाने से पानी के रिसाव को रोका जा सकता है। जिस पर मंथन किया जा रहा है। वही बताया कि प्लिंथ के निर्माण में लगने वाले मिर्जापुर के बलुआ पत्थर पानी को सोखता है। इसलिए मंदिर की सुरक्षा को देखते हुए पानी से बचने के लिए ग्रेनाइट के पत्थरों को लगाया जाए। जिस पर चर्चा की जा रही है। मंथन के बाद सबकी सहमति पर यह कार्य किया जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE : राष्ट्र के नाम संबोधन में बोले राष्ट्रपति कोविंद - कोविड नियमों का पालन करना ही राष्ट्र धर्मRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीकोरोना पॉजिटिविटी दर में उतार-चढाव जारी, मिले नए 427 केसUP Assembly elections 2022 : 'मुस्लिमों को पिछड़ा बनाने के लिए सरकारें दोषी, बच्चों को हासिल करवाओं तालीम'स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.