दुनिया के लिए पांच अगस्त रहेगा यादगार दिन, चंद्रकांत सोमपुरा ने कहा, पुराना डिजाइन भूल गया हूं

-3डी डिजायन पर हो रहा राममंदिर निर्माण का कार्य
-अष्टकोणीय होगा मंदिर का गर्भ गृह
-सीता, लक्ष्मण, गणेश और हनुमान को समर्पित चार अन्य मंदिर भी बनेंगे

By: Mahendra Pratap

Published: 27 Jul 2020, 10:39 AM IST

लखनऊ. यूपी के लिए पांच अगस्त का दिन एक यादगार दिन होने जा रहा है। अयोध्या में पांच अगस्त को राम मंदिर का शिलान्यास और भूमि पूजन होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन करेंगे। इसके बाद शुरू हो जाएगा दुनिया के तीसरे सबसे बड़े मंदिर बनने की प्रक्रिया। चंद्रकांत सोमपुरा जिन्होंने इस रामलला मंदिर का डिजाइन तैयार किया था उनका कहना है कि मैं मंदिर के पुराने डिजाइन को अब भूल गया हूं, वो नगरी शैली में बना था जिसमें गर्भगृह के उपर एक मंदिर का टॉवर था। अब सिर्फ नए डिजाइन पर काम हो रहा है। महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि वह भूमि पूजन में अवश्य आएंगे और भगवान को नमन करेंगे। देश विदेश जनता इस ऐतिहासिक क्षण को अपने आंखों और यादों में बसा ले इसके लिए दूरदर्शन रामलला के भूमि पूजन कार्यक्रम का लाइव टेलीकॉस्ट करेगा।

सोमपुरा परिवार 16 पीढ़ियों से बना रहीं हैं मंदिर :- रामलला मंदिर की डिजाइन तैयार करने वाले शिल्पकार चंद्रकांत सोमपुरा का परिवार 16 पीढ़ियों से मंदिर बना रहा है। चंद्रकांत सोमपुरा के बाबा प्रभाशंकर सोमपुरा ने ही प्रभास पाटन में सोमनाथ मंदिर का निर्माण किया था। सोमपुरा परिवार के डिजाइन पर ही अक्षरधाम, सोमनाथ और अंबाजी मंदिर बनाए गए हैं। वर्ष 1987 में विहिप के तत्कालीन अध्यक्ष अशोक सिंघल के आग्रह पर ही चंद्रकांत सोमपुरा जब 47 वर्ष के थे तब रामलला के मंदिर के डिजाइन के लिए हामी भरी थी।

सिर्फ कदमों से नाप ली जमीन :- चंद्रकांत सोमपुरा ने बताया कि वर्ष 1990 में जब वे विहिप प्रमुख अशोक सिंघल के साथ अयोध्या आए। अयोध्या का हाल देखकर उसकी अहमियत का पता चला। विवादित जमीन एक सैन्य शिविर की तरह थी। उन्होंने ने बताया कि मेरे नापने का उस वक्त कोई सामान नहीं था मैंने अपने पैरों की गिनती से मंदिर का नाप लिया था।

नए डिजाइन में तीन गुबंद जोड़ा गया :- चंद्रकांत सोमपुरा ने कहाकि 18 जुलाई को रामजन्मभूमि ट्रस्ट की बैठक में मंदिर के नए डिजाइन को फाइनल किया गया। अब चीजें आगे बढ़ रही हैं। मेरे अहमदाबाद ऑफिस में मंदिर के 3डी डिजाइन पर काम किया जा रहा है। चंद्रकांत सोमपुरा ने कहा कि नए डिजाइन में तीन गुबंद को जोड़ा गया है एक सामने से और दो साइड से, स्तंभों की संख्या 160 से 366 हो गई है। मंदिर की की सीढ़ियों की चौड़ाई 6 फीट से बढ़ाकर 16 फीट कर दी गई है। मंदिर की ऊचांई को 141 फीट से बढ़ाकर 161 फीट कर दिया गया है। मंदिर का गर्भ गृह अष्टकोणीय होगा। सीता, लक्ष्मण, गणेश और हनुमान और अन्य देवाताओं को समर्पित चार अन्य मंदिर परिसर का हिस्सा होंगे।

तीन से चार साल में तैयार हो जाएगा मंदिर :- चंद्रकांत ने बताया कि आशीष सोमपुरा मंदिर परियोजना की साइट को संभालते हैं और ट्रस्ट की बैठक में भी शामिल हुए थे। पांच अगस्त के कार्यक्रम में आशीष सोमपुरा को न्योता है। और वह उसमें सम्मलित होंगे। आशीष ने बताया कि मूल डिजाइन में करीब तीन लाख क्यूबिक सैडस्टोन पत्थर का इस्तेमाल होना था लेकिन अब इसका दोगुना इस्तेमाल किया जाएगा। राम मंदिर के निर्माण को पूरा होने में करीब साढ़े 3 साल का समय लगेगा। कोरोन संकट की वजह से यह समय करीब आठ माह और बढ़ सकता है। मंदिर के निर्माण की जिम्मेदारी लार्सन एंड टुब्रो ने संभाल ली है।

उद्धव ठाकरे अयोध्या आएंगे :- महाराष्ट्र मुख्यमंत्री मंत्री उद्धव ठाकरे ने कहाकि वह 5 अगस्त को राम मंदिर के निर्माण के लिए शिलान्यास कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। मैं अयोध्या जाऊंगा, अपनी प्रार्थना करूंगा और कार्यक्रम में हिस्सा लूंगा। शिवसेना के मुखपत्र सामना के एक साक्षात्कार में, मुख्यमंत्री ने पुष्टि की कि वह अपनी प्रार्थना की पेशकश के लिए 5 अगस्त को अयोध्या जाने वाले हैं। उन्होंने कहा, "मैं अयोध्या गया, अपनी प्रार्थना की, मुझे मुख्यमंत्री नहीं रहने पर भी सम्मान मिला। अब मैं राज्य का सीएम हूं और मैं अपनी प्रार्थना करने के लिए अयोध्या जाऊंगा।"

ऐतिहासिक क्षण का दूरदर्शन से होगा प्रसारण :- 5 अगस्त का दिन बेद महत्वपूर्ण रहेगा। अनुच्छेद 370 को हटाने के पूरे एक हो जाएगा। इसी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर की भूमि पूजन करेंगे। जिसका प्रसारण दूरदर्शन से किया जाएगा। यह भारत की जनता के लिए स्वतंत्र भारत के इतिहास में सबसे ऐतिहासिक क्षण होगा। इस कार्यक्रम को दूरदर्शन पर लाइव प्रसारित किया जाएगा। अन्य चैनल भी प्रसारण प्रसारित करेंगे। विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने शनिवार को एक प्रेस बयान में कहा, प्रधानमंत्री 5 अगस्त को अयोध्या में होंगे और "श्रद्धेय संतों, विद्वानों, ट्रस्टियों और अन्य लोगों के साथ पूजा करेंगे"भगवान श्री राम की भव्य जन्मभूमि मंदिर के लिए गणमान्य व्यक्ति”।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned