कोविड प्रोटोकॉल से सजेगा माँ दुर्गा पूजा का पंडाल

राम नगरी अयोध्या में सजेगा 63 स्थानों माँ दुर्गा पूजा महोत्सव के पंडाल

By: Satya Prakash

Published: 26 Sep 2021, 11:32 PM IST

अयोध्या। राम नगरी अयोध्या में नवरात्रि पर्व पर माता रानी की प्रतिमा बैठाए जाने को लेकर तैयारी शुरू कर दिया गया है। अयोध्या के पंच कोसी परिक्रमा के अंदर लगभग 63 स्थानों अलग-अलग स्वरूप में प्रतिमा को विराजमान कराया जाता है। इस वर्ष कोविड प्रोटोकॉल को लेकर दुर्गा पूजा महोत्सव का आयोजन किया जाना है। जिसकी तैयारी को लेकर आज अयोध्या धाम में केंद्रीय दुर्गा पूजा रामलीला समन्वय समिति अयोध्या धाम की बैठक बुलाई गई। जिसमें कई निर्णय लिए गए हैं।

अयोध्या में 63 स्थानों पर सजेगा पंडाल

अयोध्या के नया घाट स्थित तिवारी मंदिर में महंत गिरीश पति त्रिपाठी की अध्यक्षता में पंचकोसी परिक्रमा मार्ग के अंतर्गत आने वाली 63 समितियों के पदाधिकारी एवं केंद्रीय समिति के पदाधिकारी शामिल हुए और सभी ने निर्णय लिया कि इस वर्ष भी दुर्गा पूजा का महा उत्सव कोविड प्रोटोकॉल के अंतर्गत मनाया जाएगा क्योंकि पूरे विश्व से कोरोना महामारी अभी समाप्त नहीं हुई है। वहीं इस दौरान पूजा पंडाल को भी जारी किए गए गाइड लाइन के तहत बनाये जाने पर भी सहमति हुई। इस दौरान उपाध्यक्ष रमेश गुप्ता राना, प्रवक्ता अनु प्रताप सिंह, देवर्षिराम त्रिपाठी, पंकज गुप्ता, नितिन मिश्रा, अनुराग मिश्रा, विनोद पाठक, इंद्रजीत शुक्ला, कुलदीप यादव, प्रदीप पांडे सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए महंत गिरीश पति त्रिपाठी ने कहा कि पिछले डेढ़ वर्षो से देश ही नहीं पूरा विश्व कोरोना जैसी भयंकर बीमारी से लड़ रहा है इसमें हमारे बीच के ही हजारों लोग अब नहीं रहे इसलिए हमें सनातन परंपरा के अंतर्गत अपना उत्सव मनाना चाहिए लेकिन सरकार, डॉक्टर, वैज्ञानिकों के द्वारा जो प्रोटोकाल बताया जा रहा है उसको हम सभी को पालन करना चाहिए और केंद्रीय समिति सभी दुर्गा पूजा समितियों से नियमों का पालन करने का अनुरोध करती है।

कोविड प्रोटोकॉल के बीच मनाया जाएगा महोत्सव

अध्यक्ष रमापति पांडे ने बताया की जिला अधिकारी ने प्रशासनिक बैठक में यह बताया कि पिछले वर्ष जैसे हमने दुर्गा पूजा और रामलीला मनाया था वैसे ही इस वर्ष भी उत्सव मनाएंगे सार्वजनिक स्थल पर पंडाल नहीं लगाए जाएंगे पंडाल छोटे होंगे और नगर निगम द्वारा सभी पूजा स्थलों पर सफाई और दवा का छिड़काव किया जाएगा। संयोजक महंत धनुषधारी शुक्ला ने दुर्गा पूजा समितियों द्वारा दिए गए सुझाव को प्रशासन नगर निगम के अधिकारियों से बात करके पूजा बैठने के पहले समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया और बताया कि पिछले वर्ष 63 स्थानों पर दुर्गा पूजा मनाया गया था इस वर्ष भी लगभग उतनी समितियां सभी नियमों का पालन करते हुए दुर्गा पूजा उत्सव मनाएगी। केंद्रीय समिति सभी पूजा समितियों की समस्याओं का समाधान कराने का प्रयास करेगा। उन्होंने बताया कि कलश स्थापना 7 अक्टूबर को होगी और विजयदशमी मां के प्रतिमा का विसर्जन 15 अक्टूबर को होगा।

Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned