मुस्लिम पक्षकारों के रामजन्मभूमि अधिग्रहित परिसर में प्रवेश रोकने के मामले ने पकड़ा तूल

मुस्लिम पक्षकारों का आरोप फैसला रामलला के पक्ष में दिए जाने के बाद ट्रेंचों और कमरों के निरीक्षण के लिए मुस्लिम पक्षकारों को रंगमहल बैरियर कर दिया गया वापस

 

By: अनूप कुमार

Published: 03 Dec 2019, 04:11 PM IST

अयोध्या : रामजन्मभूमि परिसर में पुरातत्व विभाग की ओर से कराई गई खुदाई से प्राप्त अवशेषों और गड्ढों के पाक्षिक निरीक्षण में मुस्लिम पक्षकारों को रोके जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। मुस्लिम पक्ष से जुड़े मौलाना मुफ्ती हस्बुल्लाह बादशाह खान और अपीलकर्ता महफूजुर्रहमान रहमान के नामित पैरोकार मौलाना खालिक अहमद खा ने उच्चतम न्यायालय तथा अधिग्रहीत परिसर के कानूनी रिसीवर मंडलायुक्त अयोध्या को रजिस्ट्री डाक से पत्र भेजा है। मांग रखी है कि प्रकरण पर उच्चतम न्यायालय संज्ञान ले और बिना किसी अग्रिम आदेश के खुदाई से प्राप्त अवशेष रखे तीन कमरों के ताले न खोले जाएं।इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ के आदेश पर वर्ष 2002-03 में विवादित जमीन से जुड़े मुकदमे के निस्तारण के लिए साक्ष्य की तलाश में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग की ओर से विवादित परिसर क्षेत्र में खुदाई कराई गई थी।


मुकदमे से जुड़े सभी पक्षों के पक्षकारों की मौजूदगी के बीच कराई गई खुदाई से प्राप्त अवशेषों को अधिगृहित परिसर क्षेत्र के ही तीन कमरों में रखा गया है। इन कमरों में पाली लगाकर उनको सील बंद किया गया है और सील पर सभी पक्षकारों के हस्ताक्षर हैं। उच्च न्यायालय लखनऊ की ओर से खुदाई से प्राप्त अवशेषों तथा खुदाई स्थल स्थित ट्रंचो के निरीक्षण के लिए दो जजों के नेतृत्व में पुरातत्व विभाग के अधिकारी तथा पक्षकारों की टीम गठित की गई थी। यह टीम गड्ढों और क्षेत्र के रखरखाव के लिए जिम्मेदार विभागों के अधिकारियों के साथ प्रत्येक माह 2 बार रविवार को निरीक्षण करती है। 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट की ओर से विवादित जमीन का फैसला रामलला के पक्ष में दिए जाने के बाद आरोप है कि जब ट्रेंचों और कमरों के निरीक्षण के लिए मुस्लिम पक्षकार जा रहे थे तो उनको रंगमहल बैरियर से ही वापस कर दिया गया।


मुस्लिम पक्षकारों का कहना है कि अभी सुप्रीम कोर्ट की ओर से इस दिशा में कोई विधिक निर्देश नहीं दिया गया है ऐसे में हाईकोर्ट के निर्देश पर जो प्रक्रिया चल रही है उसको बाधित नहीं किया जा सकता। न्यायिक और पुरातत्व विभाग के अधिकारियों की टीम पहले की तरह निरीक्षण कर रही है।बावजूद इसके मुस्लिम पक्षकारों को निरीक्षण में जाने से रोका जा रहा है।मौलाना खालिक अहमद खा का कहना है कि अभी सुप्रीम कोर्ट की ओर से कोई आदेश नहीं दिया गया है। ऐसे में मुस्लिम पक्षकारों को निरीक्षण के लिए जाने से नहीं रोका जा सकता यह पूरी तरह अवैधानिक है। परिसर के रिसीवर मंडलायुक्त को लिखित शिकायत दी जा रही थी लेकिन उन्होंने लेने से इनकार कर दिया। इसके चलते सुप्रीम कोर्ट और रिसीवर को रजिस्टर्ड डाक से पत्र भेजा गया है। पत्र में सुप्रीम कोर्ट से विवादित परिसर का निरीक्षण बहाल और बिना मुस्लिम पक्षकारों के अवशेष रखे कमरों का ताला न खोलने की मांग की गई है।

अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned